December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

‘बाखबर’ कॉलम में सुधीश पचौरी का लेख: वीर तुम बढ़े चलो

‘मनसे’ जो करता है मन से करता है।

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के सुप्रीमो राज ठाकरे ।

जैसे को तैसा

इन दिनों न्यूज एंकर सिर्फ एंकर नहीं है। वह ‘एक में चार’ यानी ‘फोर इन वन’ है। वह देश है। राष्ट्र है। भारत है। जनता है। आजकल वह ‘हम’ कह कर दहाड़ता है। कुछ टॉप की ‘दहाड़ें’ मुलाहिजा फरमाएं: बुधवार को प्राइम टाइम में एक अंगरेजी एंकर ललकारता है: पाकिस्तान ने अपने मीडिया में भारतीय कंटेट पर बैन लगा दिया और हम हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं? दूसरा अंगरेजी एंकर ललकारा: ‘जैसे को तैसा’ यानी ‘टिट फॉर टैट’ के बिना काम नहीं चलने वाला। स्टूडियो छाप वीरता के क्या कहने!

एक अयोध्याकांड सटीक

मंत्रीजी की सटीक टाइमिंग देखें कि टाइम्स नाउ पर कारसेवकों के बीच उनका ओजपूर्ण लाइव भाषण देखें कि उन बहसों को देखें, जो अयोध्या का नाम आते ही राम भक्तों के चरणों में इन दिनों गिरी पड़ती हैं!  सबसे बड़ी बहस वाला एंकर इस नए अयोध्याकांड पर पहले नाराज दिखा कि मंदिर कार्ड क्यों खेला जा रहा है? फिर वह कहने लगा कि भाजपा रामायण म्यूजियम बनाए तो तो बनाए, लेकिन समाजवादी पार्टी को क्या पड़ी कि वह रामलीला पार्क की दुकान खोले? जब वेटीकन है, मक्का है तो राम की अयोध्या क्यों नहीं हो सकती? मंत्रीजी बोले कि आइए रामायण का ‘टूर’ करें! विपक्ष का प्रवक्ता बोला कि चुनाव में ‘टूर’ की ‘टेर’ पॉलिटीकल है। यानी इनकी पॉलिटिक्स मुर्दाबाद! अपनी पॉलिटिक्स जिंदाबाद!!

प्रतिबंध वीर

‘मनसे’ जो करता है मन से करता है। ‘ऐ दिल है मुश्किल’ को ‘रिलीज नहीं होने देना है’ की लाइन मनसे की प्रवक्ता ने जैसे ही दी कि बहादुर एंकर विनती करने लगा कि मैडम! पचास करोड़ लगा है। तीन सौ लोग काम किए हैं। फवाद कुल पांच मिनट को आता है। दया करें। रिलीज होने दें। प्रवक्ता बोलीं कि सीमा पर सैनिक शहीद हो रहे हैं, देश का मूड गुस्से का है। पाकिस्तान का ‘कल्चरल आइसोलेशन’ करना है। भाजपा प्रवक्ता बोलीं कि पाकिस्तान आतंकवादी देश है, सरकार ने बैन नहीं लगाया है, लेकिन पाकिस्तान का ‘आइसोलेशन’ जरूरी है!

रिलीज की खातिर करन जौहर ने नए वीडियो में पहले वाली लाइन ठीक कर विनती की कि पाकिस्तानी कलाकारों को आगे नहीं लूंगा। मैं अपने देश से बहुत प्यार करता हूं। तीन सौ लोगों ने काम किया है। यानी अब रिलीज होने दीजिए प्लीज! एक फिल्मी बिचौलिया हर चैनल पर जाकर यही लाइन देता रहा कि करन ने अपनी गलती मान ली है, अब तो रिलीज का रास्ता खुलना चाहिए! पता नहीं कौन से वाले ‘भट्टजी’ कहने लगते हैं: ऐसे बैन से तो आतंकवादी खुश होंगे कि हमने भारतीयों में फूट डलवा दी! देश की लाइन अब इस लाइन से तय होती है कि ‘कहीं ऐसा करने से पाकिस्तान तो खुश नहीं होगा?’ उसे रोता देखने के लिए हमारे एंकर तरसते हैं।

‘बैन’ के बाद ‘ऐ दिल है मुश्किल’ को फ्री का जैसा प्राइम टाइम प्रोमो मिला है उतना हजार प्रोमो नहीं कर पाते। चैनल पिक्चर को प्रेम पूर्वक बेच रहे हैं। एक अंगरेजी चैनल की रिपोर्टर लड़के-लड़कियों से लाइव पूछती फिरती दिखी कि आप देखने जाएंगे कि नहीं और ज्यादातर कह रहे हैं कि जाएंगे! पीस टू कैमरा करते हुए रिपोर्टर बताती है कि कुछ जाएंगे, कुछ नहीं जाएंगे। इतने प्रोमो के लिए इतना कष्ट क्यों किया? यानी कि रिलीज होगी, संग में कुछ हंगामा रहेगा और कमाई होगी।
‘तीन तलाक’ को ‘तीन तलाक’

देश का एजंडा तय करने वाला सबसे महंगा एंकर, सुधारवादी एंकर जोश में रात के नौ बजे हेडलाइन्स देते हुए अपने ‘हैशटेग मंदिर पॉलिटिक्स’ पर वापस लौटता है। बैकग्राउंड में जोेशीला म्युजिक बजता है कि एक जोशीली बहस खुल जाती है। तीन चेहरे बहस से पहले ही बेहद प्रसन्न नजर आते हैं, बाकी तीन उदास नजर आते हैं। एंकर लाइन देता है- जब ‘एक देश एक राष्ट्र तो फिर एक कानून क्यों नहीं?’

मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड वाले: तीन तलाक में यह हिंदुत्ववादी हस्तक्षेप है। इसे कौम नहीं मानने वाली! लॉ कमीशन कौन है हमसे पूछने वाला? हम जवाब नहीं देंगे! एक मुसलिम विदुषी: तीन तलाक इस्लाम में कहीं नहीं लिखा। हजारों औरतें दुखी हैं तीन तलाक से! इसे खत्म होना ही चाहिए। भाजपा प्रवक्ता: पीड़ित मुसलिम महिलाओं ने अदालत से न्याय मांगा है। अदालत ने सरकार से पूछा है- एक देश है एक राष्ट्र है तो एक कानून क्यों नहीं होना चाहिए।
बिग बॉस में ह्रीं श्रीं क्लीं

मार्केटिंग वालों ने लाइन दी कि ‘बेरोजगार सेलीब्रिटीज’ के संग हमेशा बेरोजगार रहने वाले कुछ आम आदमी भी टिका दो और आम आदमी को बिग बॉस बेचो। सलमान की बॉडी बेचो, मनवीर गूजर की रफ-टफ लठ्ठमार खड़ी बोली बेचो। पैंतालीस जनों की उसकी ‘युनाइटेड फेमिली’ को बेचो। एक पगलेट तांत्रिक को टिकाओ। वह बिग बॉस के घर में बसी बुरी आत्माओं को ‘ह्रीं श्रीं क्लीं’ करके भगाएगा और घर का शुद्धीकरण करेगा। ‘अपने मंत्र-तंत्र से सब ठीक कर दूंगा’ वाले बाबा के अंदर जाते सलमान उसकी हंसी उड़ाते हैं। एक दिन के लिए दीपिका पादुकोण भी घर में पधारती हैं। इस बार बिग बॉस के घर का आइडिया कुछ नया है। इस बार दो घर हैं। एक सेवकों का एक स्वामियों का। सेलीब्रिटी सेवक होंगे और आम आदमी स्वामी!
या अनुरागी चित्त की

पहले अनुराग कश्यप ने ट्वीट मारा कि लाहौर जाने के लिए पीएम ने माफी नहीं मांगी! एक केंद्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि कोरे प्रचार की खातिर कुछ लोग पीएम पर अटैक करते रहते हैं, तब अनुराग कश्यप ने करेक्शन किया कि मैंने तो माफी की बात नहीं की! सच ही कहा है:
‘या अनुरागी चित्त की, गति समुझे नहिं कोय!
ज्यों ज्यों बूड़े ट्वीट रंग, त्यों त्यों गड़बड़ होय!!

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 23, 2016 2:33 am

सबरंग