ताज़ा खबर
 

ये है हनुमान जी के व्रत करने की सरल विधि

हनुमान जी का व्रत करने वाले लोगों को मंगलवार को जल्दी उठ जाना चाहिए।
ज्योतिषी बताते हैं कि जो लोग हनुमान जी का व्रत करते हैं उन पर किसी प्रकार के काले जादू का असर नहीं होता।

धर्म शास्त्रों में मंगलवार के दिन को हनुमान जी का दिन बताया गया है। ज्योतिषियों के अनुसार अगर किसी जातक की कुंडली में हनुमान जी गलत स्थान पर बैठे हैं और उनको उनकी मेहनत का फल नहीं मिल रहा है तो पूजा करके या उनका व्रत करके हनुमान जी को खुश किया जा सकता है। आज हम आपके लिए लाएं है, हनुमान जी के व्रत करने की विधि। बताए गए तरीकों को अपनाकर आप हनुमान जी का व्रत कर सकते हैं और हनुमान जी खुश कर सकते हैं।

ज्योतिषी बताते हैं कि जो लोग हनुमान जी का व्रत करते हैं उन पर किसी प्रकार के काले जादू का असर नहीं होता। हनुमान जी के व्रत को बहुत ही शुभ बताया गया है। ज्योतिषियों का मानना है कि इस व्रत से जातक को कई पापों से मुक्ति मिलती है। अगर कोई व्रत की शुरूआत करे तो उसे कम से कम 21 व्रत करने चाहिए।

हनुमान जी का व्रत करने वाले लोगों को मंगलवार की सुबह जल्दी उठना चाहिए। उठकर सबसे पहले स्नान करना चाहिए। हो सके तो सूर्योदय से पहले स्नान कर लें और सूर्य को पहली किरण को देखें। स्नान करने के बाद घर के ईशान कोण में पूजा-पाठ शुरु करें। ध्यान रहे आपका चेहरा ईशान कोण की ओर होना चाहिए और आपके सामने हनुमान जी की मूर्ति या उनका कोई चित्र होना चाहिए। हो सके तो इस दिन लाल वस्त्र धारण करें।

हनुमान जी के सामने घी का दीपक जलाना चाहिए। घी के दीपक को शुभ माना जाता है। हनुमान जी की को मूर्ति को फूल चढ़ाना ना भूलें। अगर सिंदूर, धूप आदि भी हैं तो इसे भी शुभ माना जाता है। अगर सिंदूर है तो उसे हनुमान जी की मूर्ति पर लगाएं। धूप और दीपक जलाकर पहले मंगलवार कथा पढ़ें। कथा पढ़ने के बाद हनुमान चालिसा और सुंदर पाठ पढ़ें।

इस दिन व्रत रखने वालों को दिन में एक बार ही खाना खाना चाहिए और खाने में नमक बिलकुल भी नहीं होना चाहिए। ज्योतिषियों के अनुसार 21 मंगलवार व्रत करने के बाद 22 वें मंगलवार को 21 ब्राह्मणों को घर बुलाकर भोजन कराएं दें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.