ताज़ा खबर
 

सावन शिवरात्रि 2017 व्रत विधि: यह है भगवान शिव की पूजा का सही तरीका

Sawan Shivratri 2017 Vrat Puja Vidhi: सावन के महीने में भगवान शिवजी की पूजा करना बहुत शुभ माना जाता है।
Sawan Shivratri Vrat Vidhi: शिवलिंग का सांकेतिक फोटो

शुक्रवार यानि 21 जुलाई 2017 को सावन की शिवरात्रि मनाई जाएगी। साल में दो शिवरात्रियां मनाई जाती हैं। पहली शिवरात्रि फाल्गुन के महीने में मनाई जाती है तो वहीं दूसरी शिवरात्रि सावन के महीने में मनाई जाती है। इन दोनों शिवरात्रियों का अपना अलग-अलग महत्व होता है। सावन महीने की शिवरात्रि में भगवान शिवजी की पूजा का विशेष महत्व होता है। सावन महीने की शिवरात्रि में भगवान शिवजी की पूजा करना ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि सावन के महीने के भगवान शिवजी का महीना माना जाता है। मान्यता है कि इस महीने में भगवान शिवजी की पूजा करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

सावन के महीने में भगवान शिवजी की पूजा करना बहुत शुभ माना जाता है। भगवान भोलेनाथ अपने भक्तों के कष्ट दूर कर लेते हैं। सावन के महीने में भगवान शिवजी के व्रत को बहुत ही शुभ माना जाता है। आज हम आपके लिए लाए हैं सावन के महीने में भगवान शिवजी के व्रत करने की विधि-

शिवलिंग पर कौन सी चीज नहीं चढ़ाई जाती है?

सावन के महीने की शिवरात्रि को सुबह जल्दी उठकर नहा लें और साफ-सुथरे वस्त्र पहने। इस दिन भगवान शिवजी की पूजा करने के लिए सामग्री तैयार कर लें। भगवान शिवजी की पूजा में गंगाजल, दूध, धूपबत्ती, अगरबत्ती आदि रख लें। अगर आप चाहें तो भांग, धतूरा भी पूजा में शामिल कर सकते हैं क्योंकि भगवान शिवजी ये सब बहुत पसंद है। इस दिन घर के पास के मंदिर में जाना भी शुभ माना जाता है।

मंदिर में जाकर शिवलिंग पर जलाभिषेक करें। दूसरी सामग्री से भगवान शिवजी की पूजा करें। पूजा के वक्त भगवान शिवजी का ध्यान करना अच्छा माना जाता है। व्रत के दिन खाने-पीने का विशेष ध्यान रखा जाता है। शाम के समय में भोजन ग्रहण करके व्रत खोल सकते हैं। ध्यान रहे इस दिन नमक नहीं खाना चाहिए।

सावन के महीने में कभी भी मांस-मदिरा का सेवन भी नहीं करना चाहिए। इस महीने खान-पान का विशेष ध्यान देना चाहिए, क्योंकि सावन के महीने में बारिश ज्यादा होती है। बारिश ज्यादा होने के कारण खाने-पीने के कीड़े लगने का खतरा बढ़ जाता है।

किसानों के लिए विदेशी पर्यटक करेगा 6000 किमी की यात्रा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग