ताज़ा खबर
 

इन ग्रहों की वजह से रहस्य ही रहा गया अमिताभ बच्चन और रेखा का प्यार

अमिताभ की कुंडली के चौथे भाव में शनि बैठा है। यही शनि उन्हें महानायक बनाता है।
बॉलीवुड एक्टर अमिताभ बच्चन।

अमिताभ बच्चन बॉलीवुड का एक ऐसा सितारा, जो किसी किसी परिचय का मौहताज नहीं। किसी जमाने में उन्हें डॉन के नाम से जाने गया तो कभी उन्होंने शहंशाह बनकर लोगों के दिलों में अपनी जगह बना ली। आज हम आपके लिए हैं बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन की कुंडली का विश्लेषण। अमिताभ बच्चन की कंडली का विश्लेषण करने वाले ज्योतिषी शैलेंद्र पांडे का कहना है कि ज्योतिष का इस्तेमाल करके परेशानियों से किस तरह से निकला जा सकता है ये कोई अमिताभ से सिखे। अमिताभ की कुंडली इसका सबसे अच्छा उदारहण है।

ज्योतिषी शैलेंद्र पांडे का कहना है कि अमिताभ और रेखा के प्यार के बारे में बॉलीवुड में कई बाते चली। लेकिन किसी के सामने इसकी सच्चाई सामने नहीं आई। अमिताभ की राशि तुला है। जिसे रोमांटिक राशि माना जाता है। शुक्र ग्रह को भावनाओं का स्वामी माना जाता है। उनकी कुंडली के ग्रह दर्शाते हैं कि भावनाओं ने आकर वो कई बार समस्याओं में पड़ जाते हैं। इनका कुंभ लग्न है। कुंभ लग्न के कारण अमिताभ रहस्य बनाए रखने में कामयाब रहे हैं। ऐसे लोगों को समझ पाना आसान नहीं होता है। उनकी कुंडली में बृहस्पति की मध्यम दशा से प्रेम की शुरुआत हुई। लेकिन शनि आने की वजह से शनि का प्रेम रहस्य ही रह गया।

अमिताभ बच्चन का लग्न कुंभ है और राशि है तुला। दोनों ही वायु तत्व के मामले हैं। वायु के अंदर प्रसार बहुत होता है। इससे व्यक्ति की प्रसिद्धि वायु की तरह चारों दिशाओं में फैल जाती है। लग्न में केतु है और सप्तम के राहु बैठा है। केतु और राहु के अंदर रूप बदलने की क्षमता है। इसलिए जब किसी अभिनेता की कुंडली में केतु और राहु प्रभावशाली हो जाते हैं तो व्यक्ति अलग तरह के रोल कर पाता है। कई तरह के अभिनेय करने की शक्ति होती है।

अमिताभ की कुंडली के चौथे भाव में शनि बैठा है। यही शनि उन्हें महानायक बनाता है। क्योंकि शनि यहां बहुत प्रबल है। मंगल और सूर्य के वजह से इनके स्वास्थ्य की समस्याएं आ सकती हैं। वैसे तो उन्हें किसी चीज की कमी नहीं है लेकिन फिर भी वो अपनी अंगुलियों को अंगूठियों से ढ़के रहते हैं। अमिताभ अंगुलियों में नीलम पहने रहते हैं। इसे वो अपने लिए लकी मानते हैं। अमिताभ दो को अपना लकी नंबर मानते हैं।

अमिताभ बच्चन की बुध की दशा 1990 से शुरू हुई। बुध की दशा ने उन्हें फायदे भी दिए हैं तो वहीं बुध ने अमिताभ को कई तरह की परेशानियां भी आई हैं। उनकी कुंडली के शक्ति शनि है। शनि ने उन्हें संघर्ष करने की ताकत दी। नीलम पहने के बाद उनका शनि और भी मजबूत हो गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग