ताज़ा खबर
 

Janmashtami Puja Vidhi: ऐसे करेंगे भगवान श्रीकृष्ण की पूजा तो घर में खुशियां भर देंगे बाल गोपाल!

Krishna Janmashtami Puja Vidhi 2017: जन्माष्टमी के दिन भगवान श्री कृष्ण को पीले रंग के वस्त्र धारण करवाए जाते हैं और पीले रंग के आभूषणों से उनका श्रृंगार करना होता है।
Janamashtami Puja Vidhi: भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति को दूध से नहलाती एक महिला। (Photo Source: Indian Express Archive)

Krishna Janmashtami Puja Vidhi: भगवान श्री कृष्ण के जन्म के उपलक्ष्य में भारत सहित पूरे विश्व में बसे हिंदू संप्रदाय को लोग यह त्योहार मनाते हैं। पुराणों के मुताबिक भगवान श्री कृष्ण ने अपने अत्याचारी मामा कंस का विनाश करने के लिए मुथरा में अवतार लिया था। इस दिन लोग उपवास रखतें हैं और भगवान श्री कृष्ण की पूजा करते हैं। इस शुभ मौके पर हम आपको पता रहे हैं कि जन्माष्टमी के दिन भगवान श्री कृष्ण की पूजा कैसे की जाए।

सुबह उठकर पूजा से पहले स्नान करें और माथे पर चंदन लगाएं। इसके बाद घर में बने मंदिर में जाए और भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति को भी स्नान कराएं। मूर्ति को दूध, घी, फूल और साधा पानी से नहलाते वक्त जप करें- ‘ब्रह्मा स्मिहता गोविंदम आदि पुरुशम’ का जाप करें। स्नान कराने के बाद उन्हें पीले वस्त्र धारण कराएं और पीले रंग के आभूषणों से उनका श्रृंगार करें। इसके बाद उन्हें दोबारा से मंदिर में विराजमान करा दें। नहलाने के बाद मूर्ति के साथ खाना, फूल, पानी और घी का दिया रख दें। पूजा के लिए एक पवित्र और साफ सुथरी थाली लें, उसमें गंगाजल, कुमकुम, चंदन, धूप, दीपक और कुछ फूल रख लें। इसके अलावा एक दूसरी प्लेट और लें जिसमें फल-फूल और पानी रखें। इसके साथ ही उसमें घी या तेल का दीपक रख लें।

जब यह सब हो जाए, तब अपने बाएं हाथ से पानी लेकर सीधे हाथ से पानी लें और बोलें ‘ओम अच्युत्याय नम:’ और उस पानी को तुरंत पी जाएं। उसके बाद फिर पानी लें और बोलें- ‘ओम अनंत्याय नम:’ और फिर पानी पी जाएं। इसके बाद आखिर में ‘ओम गोविंदाय नम:’ बोलें और पानी फिर पी जाएं। इसके बाद दोनों हाथों पर पानी डालें।

इसके बाद भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति पर चंदन का तिलक लगाएं। इसके बाद बोलें ‘शुभम करोति कल्याणम्’ और दीपक जला देंगे। तभी ‘गुरु ब्रह्रा, गुरु विष्णु’ कहें और उसके बाद कृष्ण भजन गाएं। इसके बाद भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति के पास सात बार धूपबती घुमाएं। इसके बाद भगवान श्री कृष्णा के पैरों पर कुमकुम लगाएं और उसके बाद उसे अपने माथे पर लगा लें। पूजा के दौरान भगवान श्री कृष्ण से अपने पापों के लिए माफी मांगे। इसके बाद जो फल, पानी और फूल भगवान को चढ़ाए थे, उन्हें आप भी खा सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग