ताज़ा खबर
 

जानिए क्यों की जाती है शिवलिंग की पूजा

जानकारों के अनुसार शिवलिंग दो शब्दों से मिलकर बना है। शिव और लिंग। शिव का अर्थ होता है- परम कल्याणकारी और लिंग का अर्थ होता है- सृजन।
यह शिवलिंग कश्मीर से लाया गया था। इसके पूजन का भारतीय धर्म ग्रन्थों में बहुत महत्व बताया गया है। (साकेतिक फोटो)

पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान शिव जी को संसार का मूल कारण माना जाता है। शिव जी को संसार का मूल कारण मानने का वजह से उनकी पूजा की जाती है। शिव जी की पूजा में शिव लिंग का विशेष महत्व बताया जाता है। इसकी मुख्य वजह है शिव लिंग को शिव जी का साकार रूप माना जाना। जानकारों के अनुसार शिवलिंग दो शब्दों से मिलकर बना है। शिव और लिंग। शिव का अर्थ होता है- परम कल्याणकारी और लिंग का अर्थ होता है- सृजन।

शिवलिंग पर जल चढ़ाने की परंपरा के बारे जानकारों का कहना है कि समुद्र मंथन के समय सारे देवता अमृत लेना चाहते थे। समुद्र मंथन के समय जब विष आया तो सबने पीने से मना कर दिया। कहा जाता है कि इस विष से सारा संसार नष्ट हो सकता था। शिव जी ने इस विष को अपने कण्ड में धारण कर लिया। विष को कण्ड में धारण करने के कारण उनका शरीर नीला पड़ गया, जिसके कारण उन्हें नीलकण्ड भी कहा जाता है। विष के असर से शिवजी के शरीर का दाह बढ़ गया। उस दाह के समन के कारण शिवलिंग पर जल चढ़ाया गया और जब से ये परंपरा चली आ रही है।

वहीं शिवलिंग के बारे में एक अन्य कथा भी है, जिसके अनुसार एक बार शिवजी बिना वस्त्रों के जंगलों में घूम रहे थे, जिसके बाद ऋषियों ने उन्हें शाप दिया कि उनका लिंग कटकर गिर जाए। शाप के बाद शिवजी का लिंग कटकर पाताल में चला गया। जिसके बाद तबाही मचने लगी। हालात बिगड़ने लगे तो देवता माता पार्वती के पास पहुंचे और उन्हें सारी बात बताई। समस्या का हल निकालने के लिए माता पार्वती ने शिवलिंग का निर्माण किया।

शिवलिंग की पूजा के बारे में श्री शिवमहापुराण सृष्टिखंड में लिखा गया है कि एक बार भगवान ब्रह्मा ने शिवजी से पूछा कि आप कैसे खुश होते हैं तो भगवान शिवजी ने कहा कि मुझे खुश करने के लिए शिवलिंग का पूजा करो। साथ ही शिवजी ने कहा कि जब भी किसी पर कोई संकट आए तो उसे भी शिवलिंग की पूजा करनी चाहिए। शिवलिंग की पूजा करने से हमारे सारे दुखों का नाश हो जाता है। शिवलिंग की पूजा के बारे में कहा गया है कि भगवान विष्णु ने नारद को शाप दिया था तो बाद में शिवलिंग के पूजन की सलाह दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 19, 2017 3:14 pm

  1. No Comments.
सबरंग