ताज़ा खबर
 

जानिए व्रत रखने के धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

ज्योतिषियों का कहना है कि व्रत रखने से देवी-देवता खुश होते हैं।
पूजा करती महिलाएं (सांकेतिक फोटो)

किसी उद्देश्य प्राप्ति के लिए दिनभर में भोजन का सेवन न करना व्रत कहलाता है। हिंदू धर्म में व्रत रखने को बहुत महत्वपूर्ण बताया गया है। कहा जाता है कि लोग अपनी आस्था के अनुसार अगल-अलग देवी-देवताओं के लिए व्रत रखते हैं। ज्योतिषियों का कहना है कि व्रत रखने से देवी-देवता खुश होते हैं। व्रत को खास मौके पर रखा जाता है। कई बार साप्ताहिक व्रत रखा जाता है तो कई बार किस खास मौके पर व्रत रखा जाता है।

व्रत रखने के धार्मिक महत्व होने के अलावा कई वैज्ञानिक महत्व भी हैं। आयुर्वेद में बताया गया है कि व्रत रखने से पाचन क्रिया को आराम मिलता है। अगर हम एक दिन कुछ नहीं खाते हैं तो हमारा पाचन तन्त्र ठीक रहता है। इससे शरीर के हानिकारक तत्व बाहर निकलते हैं।

जिस दिन व्रत रखा जाता है उस दिन फैट बर्निंग प्रोसेस तेज हो जाता है, जिसेस शरीर की चर्बी तेजी से गलना शुरू हो जाती है। जिस दिन व्रत रखा जाता है उस दिन मेटाबॉलिक रेट में तीन से 14 फीसदी तक बढ़ोत्तरी होती है। साथ ही व्रत रखने दिमाग भी स्वास्थ्य रहता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ कैलिफोर्निया के जानकारों के अनुसार कैंसर के मरीजों के लिए व्रत रखना बहुत फायदेमंद होता है। जो मरीज कीमोथेरेपी ले रहे हैं उन लोगों के लिए व्रत रखना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। कहा जाता है कि व्रत रखने से नई प्रतिरोधक कोशिकाएं बनती हैं।

अगर हर सप्ताह उपवास रखा जाता है तो शरीर में कोलेस्ट्राल की मात्रा घटती है, जो धमनियों के लिए बहुत लाभदायक होता है।

व्रत रखने से डिप्रेशन जैसे परेशानियों से निजात मिलती है। इससे तनाव दूर होता है। जिस दिन व्रत रखा जाता है उस दिन शरीर में ऊर्जा कम हो जाती है। शरीर की ऊर्जा को बनाए रखने के लिए लगातार पानी पीते रहने की जरूरत होती है।

डॉयबिटीज के रोगियों के लिए व्रत रखना बहुत फायदेमंद माना जाता है। इससे हमारे शरीर को कार्बोहाइड्रेट्स को प्राप्त करने की क्षमता बढ़ती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.