ताज़ा खबर
 

जन्माष्टमी 2017 पूजा विधि: जानिए- किस मुहूर्त में करें पूजा और कब से कब तक रहेगी अष्टमी तिथि

Janmashtami Puja Vidhi 2017 in Hindi: जन्माष्टमी के दिन व्रत रखने का विधान है। इसके अलावा इस दिन भगवान श्री कृष्ण की पूजा भी की जाती है।
Janmashtami Puja Vidhi: भगवान श्री कृष्ण और राधा के रूप में दो बच्चे। (Photo Source: Indian Express Archive)

आज (14 अगस्त) को भारत के साथ-साथ विदेश में बसे हिंदू संप्रदाय के लोग कृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार मना रहे हैं। यह त्योहार भगवान श्रीकृष्ण के जन्म के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। बताया जाता है कि भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को भगवान श्री कृष्ण ने धरती पर अवतार लिया था। भगवान श्री कृष्ण ने यह अवतार अपने अत्याचारी मामा कंस के विनाश के लिए लिया था। यह अवतार मथुरा में अष्टमी की आधी रात में लिया गया था। इस दिन मंदिरों को खास तौर पर सजाया जाता है और रासलीला का आयोजन किया जाता है। इस बार 14 अगस्त को अष्टमी तिथि शाम 7.45 बजे से और 15 अगस्त शाम 5.39 तक रहेगी। इस समय के बाद कृष्ण जन्माष्टमी रोहिणी नक्षत्र रहित होगी। ऐसे में 15 अगस्त की शाम को 5.39 बजे रोहिणी नक्षत्र खत्म हो जाएगा। ऐसे में श्रद्धालू 14 अगस्त को ही जन्माष्टमी का व्रत रखें।

इस दिन भगवान श्री कृष्ण की पूजा की जाती है। जन्माष्टमी के दिन महामंत्र- ‘हरे राम, हरे राम राम राम, हरे हरे, कृष्ण हरे कृष्ण कृष्णा कृष्ण हरे हरे’ जप करते हुए रतजगा करें। इस मंत्र का जप करने से कई हजार गुना फल मिलता है। पुराणों के मुताबिक जो व्यक्ति इस मंत्र का जप करता है, उसे दिव्य आनंद का अनुभव होता है और मन शुद्ध होता है। इसके साथ ही बताया गया है कि इस मंत्र का जाप करने से बिगड़े काम बन जाते हैं।

भगवान श्री कृष्ण का जन्म मध्यरात्रि में हुआ था, ऐसे में रात 12 बजे विधि-विधान से पूजा करनी चाहिए। रात में 12 बजे एक प्लेट में एक खीरा रखें और उसे बीच में से चाकू से काट दें। इस खीरे को इस तरह से काटा जाए, जैसे प्रसव के दौरान बच्चे की नाल काटी जाती है। पूजा के बाद इस खीरे को प्रसाद के रूप में ग्रहण कर सकते हैं। इसके बाद भगवान कृष्ण को पंचामृत से स्नान करवाएं और उसे बाद में प्रसाद के रूप में बांट सकते हैं। स्नान के बाद श्री कृष्ण को पीले रंग के वस्त्र पहनाएं और पीले रंग के आभूषणों से उनका श्रृंगार करें। श्रृंगार के बाद उन्हें झूले पर स्थापित करें और हल्के-हल्के प्यार से उन्हें झूला झुलाएं। इसके बाद उन्हें झूले से उतारकर सिंहासन पर विराजमान कर दें। भगवान श्री कृष्ण को माखन और मिश्री बहुत पसंद है, ऐसे में उन्हें इसका भोग लगाएं। इसके साथ ही यह भी ध्यान रखें कि उनके पास बांसुरी भी रखना ना भूलें। उन्हें बांसुरी बहुत ही पसंद थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. J
    Jaya Srivastav
    Aug 15, 2017 at 4:18 pm
    s: /ll6cpN8trG0?list PLq6_z-EPUUtPdMLdJ9kmpH3oGx7MbDIX5 I have tried to sing the cover of the song "Yashomati Maiyya se bole nandlala" on the occasion of Sri Krishna Janmashtmi. Hope you like it. Wishing you all a very Happy Janmashtmi !
    (0)(0)
    Reply
    1. M
      Mahalaxmi vrat 16 days for 16 years
      Aug 14, 2017 at 10:30 am
      धन सबकी किस्मत में है। सबके लिये विष्णु-लक्ष्मी जी, संपत्ति से भरी तिजोरी भेजते हैं। बस उस तिजोरी की चाबी उनके पास होती है। धनी बनने के लिए इसी तिजोरी की चाबी को खोजना है। चाबी कैसे मिलेगी यह बड़ा सवाल है। तो इसके लिए करने होंगे लक्ष्मी जी के उपाय। वैसे भी महालक्ष्मी व्रत 29 August से शुरू होंगे। लक्ष्मी जी आपके घर में, उत्तर दिशा से आयेंगी। तो धन संपत्ति पाने के लिये, लक्ष्मी जी को उत्तर दिशा से पुकारें। 15 दिन लक्ष्मी की आराधना से जन्म-जन्म की कंगाली दूर होगी। more details at pulkit5225 rediffmail Become Rich by doing MAHALAXMI VRAT 15 days for 15 remedies Mahalaxmi vrat, watch video in Hindi s: /watch?v LSHVRQehjm0 Amit Shah pulkit5225 rediffmail
      (0)(0)
      Reply
      1. M
        manish agrawal
        Aug 14, 2017 at 8:26 am
        खूब घी , मक्खन, मिश्री , दूध , दही और मेवा लुटाओ , बधाई गाओ , " नन्द घर आनंद भयो , जय कन्हैया लाल की " ! 64 मासूम बच्चे मारे गए तो क्या हुआ ? धर्म की , कृष्ण जन्मोत्सव की अफीम खाओ और नृत्य संगीत के द्वारा खूब धूम मचाओ ! इसमें शर्म कैसी ? 64 घरों के चिराग बुझ गए तो क्या हुआ ? मारे गए बच्चों के माँ बाप के घाव पर खूब नमक डालो !
        (0)(0)
        Reply
        1. M
          manish agrawal
          Aug 14, 2017 at 8:19 am
          उत्तरप्रदेश में , बीजेपी सरकार की मेहरबानी से इस बार ी तरह से जन्माष्टमी मनेगी क्योंकि हज़ारों वर्ष पूर्व जब भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था , तब मथुरानरेश कंस ने ब्रजमंडल में अनेक मासूम बच्चों की हत्या करवाई थी , उसी प्रकार गोरखपुर के अस्पताल में भी , हुकूमत की लापरवाही की वजह से 64 मासूम बच्चे मारे गए हैं !
          (0)(0)
          Reply
          1. B
            Bhanu Kapoor
            Aug 14, 2017 at 9:54 am
            I pity on you jeevan aur mrityu karm pradhan hoti hai . Maanyawar jaiyye Ek baar phir se BHAGWAD PADIYE AND ITS A HUMBLE REQUEST. Before writing anything think before kya aapne kabhi koi bhi bura kaam nahi kiya , agar nahi kiya tabhi aap prashn kar ke adhikari as par Vidur niti
            (0)(0)
            Reply
          सबरंग