ताज़ा खबर
 

घर में भगवान की मूर्ति लगाने के लिए अपनाएं ये तरीके, इससे मिलेगी शांति और समृद्धि

वराह पुराण के अनुसार जिस दिन घर में मूर्ति लगाई जा रही है उसी दिन उपवास करना चाहिए।
भगवान की मूर्ति बनाती एक महिला। (सांकेतिक फोटो)

हिंदू धर्म में मूर्ति पूजा को विशेष महत्व दिया जाता है। कुछ लोगों का ऐसा मानते हैं कि घर में भगवान की मूर्ति रखने से घर सुख-शांति आती है। घर में भगवान का वास होता है। घरों में रखी कुछ मूर्तियां लकडी की बनी होती है तो वहीं कुछ मूर्तियां पत्थर की बनी होती हैं। घर में लगी भगवान की मूर्तियां कैसी होनी चाहिए, इसके बारे में वराह पुराण में विशेष रुप से लिखा गया है। हम आपके लिए लाएं हैं वराह पुराण के कुछ निर्देष जिनके अनुसार आपको घर में मूर्तियां लगानी चाहिए।

वराह पुराण के अनुसार घर में लगी मूर्तियां में ‘महुआ’ नामक लकड़ी का प्रयोग होना चाहिए। यदि मूर्ति पत्थर से बनी है तो ध्यान रहे कि मूर्ति कहीं से भी टूटी-फूटी नहीं होनी चाहिए। कहा गया है कि मूर्ति बनाने के बाद मूर्ति पर चावल के दाने डालकर उसकी शुद्धि जरुर करनी चाहिए। ऐसा करना शुभ माना जाता है। वराह पुराण के अनुसार जिस दिन घर में मूर्ति लगाई जा रही है उसी दिन उपवास करना चाहिए। ऐसा करने से भगवान खुश होते हैं। घर में मूर्ति लगाने से पहले उस मूर्ति के सामने चार पात्र जरुर रखने चाहिए और इन सभी पात्रों में चंदन, पंचगव्य अमृत, एवं शहद होना चाहिए।

वराह पुराण के अनुसार अगर घर में लगाई जा रही मूर्ति भगवान विष्णु या उनके किसी अवतार की है तो ऐसे में मूर्ति लगाते वक्त “ॐ नमो नारायण” के मंत्र का जाप करना चाहिए। इस जाप में ध्यान रहे कि ये जाप आपको बिना रुके करना है। घर में मूर्ति को पूर्व भाद्रपद के समय ही लगाएं। वहीं तांबे की धातु से बनी मूर्ति की स्थापना ‘चित्रा’नक्षत्र में करनी चाहिए।

अगर किसी भगवान की मूर्ति पीतल धातु से बनी है तो ‘ज्येष्ठ’ नक्षत्र में लगाकर उत्तर दिशा की ओर मुख रखकर रखें। वहीं अगर मूर्ति सोने या चांदी धातु से बनी है तो भी इसी नियम का पालन किया जाना चाहिए।

वराह पुराण में कहा गया है कि मूर्ति बनाने के बाद मूर्ति पर चावल के दाने डालकर उसकी शुद्धि जरुर करनी चाहिए। ऐसा करना शुभ माना जाता है। वराह पुराण के अनुसार जिस दिन घर में मूर्ति लगाई जा रही है उसी दिन उपवास करना चाहिए। ऐसा करने से भगवान खुश होते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.