December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

जाकिर नाईक ने गिरफ्तारी के डर से नहीं दिया पिता के जनाजे को कंधा

हालांकि अभी कोई नया एफआईआर नाईक के खिलाफ दर्ज नहीं किया गया है लेकिन माना जा रहा है कि केन्द्र सरकार उसके एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को प्रतिबंधित करने की दिशा में काम कर रही है

इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक। (Source: Twitter)

विवादित धर्म प्रचारक जाकिर नाईक अपनी गिरफ्तारी के डर से पिता के अंतिम संस्कार में भी शामिल नहीं हो सका। मुंबई में अपने घर पर नाईक के पिता अब्दुल करीब नाईक का रविवार तड़के दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। वे 87 वर्ष के थे और पेशे से फिजिशियन और शिक्षाविद थे। जाकिर के एक सहयोगी ने बताया – मझगांव स्थित अपने आवास पर तड़के 3.30 बजे उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वह उससे उबर नहीं सके। अब्दुल पिछले कुछ समय से बीमार थे। इसी इलाके के एक कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्द-ए-खाक किया गया। तटीय महाराष्ट्र के रत्नागिरी में जन्मे अब्दुल पेशे से डॉक्टर थे। मानसिक स्थास्थ्य पेशेवरों की निजी संगठन बॉम्बे साइकिऐट्रिक सोसायटी के वह 1994-95 में अध्यक्ष भी रहे।

पिता के निधन के बाद जाकिर नाईक उनके जनाजे को कंधा देने भी नहीं पहुंचे। पिता के अंतिम संस्कार में शरीक न होने के बारे में जब जाकिर नाईक के सहयोगी से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि जाकिर शरीक हो पाने में सक्षम नहीं थे। वे जल्द ही यहां आकर अपने पिता को श्रद्धांजलि देंगे। हालांकि, माना यह जा रहा है कि जाकिर नाईक को इस बात का डर था कि कहीं भारतीय पुलिस उन्हें गिरफ्तार न कर ले, इस वजह से वे पिता की अर्थी को कंधा देने नहीं पहुंचे।

वीडियो: शहीद को अंतिम विदाई

हालांकि अभी कोई नया एफआईआर नाईक के खिलाफ दर्ज नहीं किया गया है लेकिन माना जा रहा है कि केन्द्र सरकार उसके एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को प्रतिबंधित करने की दिशा में काम कर रही है। सरकार इसके लिए एक एक्ट लाने की तैयारी में है।

Read Also- जाकिर नाईक के संपर्क में थे केरल से लापता दो लड़के, पिता ने कबूला

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 31, 2016 9:42 am

सबरंग