ताज़ा खबर
 

योगी आदित्यनाथ के आदेश के बावजूद Twitter पर सक्रिय नहीं हुए ज्यादातर विभाग

शासन के आदेश के बावजूद उत्तर प्रदेश के विभिन्न सरकारी विभाग अपना ट्विटर अकाउंट खोलने के प्रति गम्भीर नहीं हैं।
Author लखनऊ | July 3, 2017 16:10 pm
उत्तर प्रदेश के मुख्मयंत्री योगी आदित्यनाथ

शासन के आदेश के बावजूद उत्तर प्रदेश के विभिन्न सरकारी विभाग अपना ट्विटर अकाउंट खोलने के प्रति गम्भीर नहीं हैं। ज्यादातर महकमों ने निर्धारित समय गुजर जाने के बावजूद इस दिशा में कदम नहीं उठाये हैं। सूचना विभाग के प्रमुख सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने गत सात जून को एक कार्यशाला में सरकार के सभी विभागों को अपना ट्विटर अकाउंट खोलने का निर्देश दिया था। इसका मकसद सरकार और जनता के बीच संवाद को और प्रभावी बनाना, शिकायतों के निपटारे की प्रक्रिया में सुधार करना तथा विभागों द्वारा किये जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी देना था।

अवस्थी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की हिदायत के बाद उक्त आदेश दिये थे। योगी ने कहा था कि प्रदेश के सभी विभाग केन्द्र सरकार के समस्त मंत्रालयों की तरह अपना-अपना ट्विटर अकाउंट खोलें। हालांकि ज्यादातर महकमों ने इस आदेश को तवज्जो नहीं दी है। यहां तक कि राज्य का सूचना विभाग भी इस पर प्रगति के बारे में अनजान है। सूचना निदेशक अनुज कुमार झा ने यह पूछने पर कि कितने विभागों ने ट्विटर पर आमद दर्ज करा दी है, ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया ‘‘हमने प्रदेश के विभिन्न विभागों के ट्विटर अकाउंट्स को अभी तक संकलित नहीं किया है। प्रक्रिया जारी है।’’ प्रदेश के जो विभाग ट्विटर पर आ भी चुके हैं, उन्होंने ना तो अभी तक कोई ट्वीट किया है और ना ही जनता की शिकायतों का कोई जवाब दिया है। एक अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में करीब 84 विभाग है और मुश्किल से एक दर्जन विभागों ने ही मुख्यमंत्री और प्रमुख सचिव के आदेश का पालन किया है।

प्रदेश पुलिस का ट्विटर हैंडल पहले ही काम कर रहा है और उसके एक लाख 91 हजार से ज्यादा फालोवर है। प्रदेश की जनता में सबसे लोकप्रिय इस सरकारी ट्विटर हैंडल के जरिये भी जनशिकायतें सुनी जा रही हैं। उत्तर प्रदेश देश का ऐसा पहला राज्य है जहां जनसमस्याओं की सुनवाई के लिये सभी पुलिस थानों को ट्विटर सेवा से जोड़ा गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनके मंत्रिमण्डलीय सहयोगियों सिद्धार्थनाथ ंिसह, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य तथा दिनेश शर्मा तो ट्विटर पर सक्रिय हैं, लेकिन उनके विभागों को अभी इस मंच पर आना बाकी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.