ताज़ा खबर
 

तैनाती पर सेना ने जारी की चिट्ठी, ममता बनर्जी- मनोहर पर्रिकर में बयानों की जंग

गुरुवार शाम को पश्चिम बंगाल के राज्य सचिवालय नबन्ना भवन के पास स्थित टोल प्लाजा पर सेना के जवान तैनात कर दिए गए थे।
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी। (Photo Source: PTI/File)

पश्चिम बंगाल के राज्य सचिवालय नबन्ना भवन के पास स्थित टोल प्लाजा पर सेना के जवान तैनात करने पर भारतीय सेना ने शुक्रवार को चार पत्र जारी किए हैं। पत्र जारी करके सेना ने कहा कि हमने रूटीन अभ्यास के बारे में पश्चिम बंगाल पुलिस को बताया था। सेना ने बताया कि ये पत्र कोलकाता पुलिस सहित अन्य पदस्थ अधिकारियों को भेजे गए थे। वहीं कोलकाता पुलिस का कहना है कि हमने सेना के पत्र का जवाब 25 नवंबर को दिया। जिसमें हमने उच्च सुरक्षा जोन और ट्रैफिक के मुद्दे को उठाया था। कोलकाता पुलिस के एडिशनल सीपी-3 ने बताया, ‘हमने 25 नवंबर को पत्र का जवाब देते हुए कहा था कि उच्च सुरक्षा जोन और ट्रैफिक होने की वजह से यहां अभ्यास संभव नहीं है। आप हमसे परामर्श के बाद दूसरी जगह ढूंढ़ सकते हैं।’ सेना द्वारा कोलकाता पुलिस को भेजे पत्रों में सहयोग की अपील की गई थी।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस दावा कर रही हैं कि नोटबंदी पर टीएमसी का विरोध करने पर पूरे प्रदेश में नाकों पर सेना तैनात कर दी गई। सेना द्वारा जारी किए गए पत्रों से पहले मेजर जनरल सुनील यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा था कि सभी जरूरी विभागों को इस अभ्यास के बारे में बताया गया था और मंजूरी ली गई थी। साथ ही उन्होंने कहा कि यह सब अभ्यास के एक सप्ताह पहले 24 नवंबर को किया गया था।

साथ ही प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया, ‘लोड कैरियर्स के बारे में आंकड़े हासिल करने के लिए सेना द्वारा देशभर में किए जाने वाले द्विवार्षिक अभ्यास को लेकर चिंतित होने की कोई वजह नहीं है। सेना ने ऐसा ही अभ्यास 26 सितंबर से एक अक्टूबर के बीच उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में किया था।’

गुरुवार शाम को पश्चिम बंगाल के राज्य सचिवालय नबन्ना भवन के पास स्थित टोल प्लाजा पर सेना के जवान तैनात कर दिए गए थे। इस पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ने भी सफाई देते हुए कहा कि ये एक रूटीन अभ्यास था और राज्य प्रशासन को इसके बारे में पहले से सूचित किया गया था। रक्षा मंत्री पर्रीकर ने शुक्रवार को लोक सभा में कहा, ‘पिछले साल 19 और 21 नवंबर को भी ऐसा अभ्यास किया गया था।’ संसद के शीतकालीन सत्र के तेरहवें दिन कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने इस मुद्दे को सदन को उठाया। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नबन्ना भवन के बाहर समेत राज्य में कई जगहों पर सेना की तैनाती को तख्तापलट की कोशिश बताया। ममता बनर्जी गुरुवार रात से ही नबन्ना में थीं। उन्होंने कहा था कि जब तक सेना नहीं हटाई जाती वो भवन से बाहर नहीं निकलेंगी। समाचार एजेंसी भाषा के अनुसार शुक्रवार को नबन्ना भवन के बाहर स्थित टोल प्लाजा से सेना हटा ली गई थी।

वीडियो में देखें- बंगाल में सेना की मौजूदगी पर ममता बनर्जी और सरकार में ठनी, देखिये कैसे बदला घटनाक्रम

वीडियो में देखें- पश्चिम बंगाल में सेना की तैनाती पर वैंकेया नायडू बोले- “ममता बनर्जी मुख्य मुद्दे से भटकाने की कोशिश कर रही हैं”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.