April 28, 2017

ताज़ा खबर

 

नारद मामले को लेकर सड़कों पर उतरेगी तृणमूल कांग्रेस

शारदा व रोजवैली चिटफंड में मंत्री व सांसदों की गिरफ्तारी के खिलाफ भी तृणमूल पहले ही आंदोलन कर चुकी है।

Author कोलकाता | March 29, 2017 18:17 pm
टीएमसी के प्रोटेस्ट मार्च में हिस्सा लेती सीएम ममता बनर्जी। (Photo: ANI)

अदालत के बाद अब नारद स्टिंग कांड को लेकर तृणमूल सड़क पर जुलूस के माध्यम से जंग छेड़ने की तैयारी कर ली है। वहीं माकपा नेतृत्व वाले वाममोर्चा भी पीछे नहीं रहने वाला, वह नारद कांड में फंसे तृणमूल के मंत्रियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर सड़क पर उतरने की तैयारी में है। शारदा व रोजवैली चिटफंड में मंत्री व सांसदों की गिरफ्तारी के खिलाफ भी तृणमूल आंदोलन कर चुकी है। अब इस बार फिर तृणमूल नारद कांड के खिलाफ सड़क पर विपक्ष को जवाब देने की तैयारी में है। तृणमूल महिला मोर्चा 30 मार्च को चंद्रिमा भट््टाचार्य के नेतृत्व में कालेज स्ट्रीट से धर्मतल्ला तक जुलूस निकालेगा। इसके अगले दिन यानी 31 मार्च को मंत्री व मेयर शोभन चटर्जी के नेतृत्व में कोलकाता जिला तृणमूल कांग्रेस के नेतृत्व में सियालदह से धर्मतल्ला तक जुलूस निकाला जाएगा। इसके अतिरिक्त तीन अप्रैल को युवा तृणमूल कांग्रेस की ओर से एक रैली हाजरा में करने की तैयारी है।

बताया जाता है कि इस दिन सांसद व ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी रैली की अगुवाई करेंगे। उल्लेखनीय है कि राज्य के विपक्षी दल इन दिनों नारद स्टिंग कांड पर तृणमूल सरकार के खिलाफ लगातार हमलावर रूख अख्तियार किए हुए हैं। तृणमूल इसे भाजपा की सियासी साजिश करार दे रही है। वहीं माकपा नेतृत्व वाले वाममोर्चा ने 29 मार्च को महानगर में जुलूस निकालने की तैयारी में है जिसमें नारद कांड में फंसे तृणमूल सांसद, नेता व मंत्रियों की गिरफ्तारी की मांग की जाएगी। वाममोर्चा से मुद्दे पर कलकत्ता हाईकोर्ट से फैसला आने के बाद ही जुलूस निकाला था। वहीं कांग्रेस ने भी जुलूस निकाल कर विरोध जताया था। भाजपा ने भी विरोध प्रदर्शन किया था। मालूम हो कि नारद स्टिंग में कथित तौर पर तृणमूल के कुछ नेताओं को कैमरे के सामने नकदी लेते दिखाया गया है। इसी को देखते हुए तृणमूल कांग्रेस ने अब विरोध स्वरूप सड़क पर उतरने का निर्णय लिया है।

दूसरी ओर नारद स्टिंग कांड की जांच कर रही सीबीआइ 26 के फेरे में फंसी हुई है। सूत्रों से पता चला है कि नारद डॉट कॉम के 26 वीडियो फुटेज को फारेंसिक लैब में खोला नहीं जा सका है। सीबीआइ अपने साफ्टवेयर का इस्तेमाल करके भी उन्हें नहीं खोल पाई है। इन वीडियो फुटेज को खोले बिना जांच में आगे बढ़ना मुश्किल है। इनके न खुलने पर कई आरोपियों के खिलाफ प्रमाण पेश कर पाना मुश्किल हो जाएगा और अदालत में सीबीआइ को कई सवालों के सम्मुख होना पड़ सकता है। बाध्य होकर सीबीआइ अब उन्हें खुलवाने में नारद वेब पोर्टल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मैथ्यू सैमुअल की मदद लेने पर विचार कर रही है। जरूरत पड़ने पर उन्हें एक बार फिर से लैब में भेजा जा सकता है। सीबीआइ का मानना है कि इन वीडियो फुटेज के खुलने पर कई महत्वपूर्ण तथ्य हाथ लग सकते हैं, जो जांच का रूख बदल सकते हैं। कई और लोगों के चेहरे भी सामने आ सकते हैं इसलिए सीबीआइ इन्हें खोलने का भरसक प्रयास कर रही है।

 

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा में GST से जुड़े 4 बिल किए पेश; कहा- "यह सबका फायदा करेगा"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on March 29, 2017 6:17 pm

  1. No Comments.

सबरंग