ताज़ा खबर
 

कोलकाता दौरे के दौरान मुख्यमंत्री ममता से मिल सकते हैं आरबीआइ के गवर्नर

इससे पहले 2010 में जब तत्कालीन आरबीआइ गवर्नर डी सुब्बाराव कोलकाता आए थे तो राज्य सचिवालय जाकर तत्कालीन मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य से मुलाकात की थी।
Author कोलकाता | December 12, 2016 20:41 pm
रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल।(फाइल फोटो)

नोटबंदी के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली और भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल तक पर हमला बोल चुकी हैं। वे मोदी के खिलाफ तो वह आठ नवंबर से ही मोर्चा खोले हुई हैं। इन सियासी गरमाहट के बीच 15 दिसंबर को उर्जित पटेल कोलकाता आ रहे हैं। वे यहां केंद्रीय बैंक की बैठक में भाग लेंगे। सूत्रों के मुताबिक उस दिन राज्य सचिवालय नवान्न में पटेल मुख्यमंत्री से मुलाकात करना चाहते हैं, हालांकि अब तक इस मुलाकात का समय तय नहीं हो पाया है। एक शीर्ष अधिकारी के मुताबिक ममता व पटेल की मुलाकात की संभावना प्रबल है और नोटबंदी के बाद यह मुलाकात और भी अहम है।

ध्यान रहे कि नोटबंदी से बहुत पहले ही आरबीआइ गवर्नर की ओर से मुलाकात के लिए ममता बनर्जी को पत्र भेजा गया था। मुख्यमंत्री से मिलने वालों की सूची में पटेल का नाम भी शामिल किया गया था। हालांकि, नोटबंदी के बाद आरबीआइ की ओर से कोई पत्र नहीं भेजा गया, जिसके चलते बैठक का समय तय नहीं किया जा सका। यदि उर्जित पटेल मिलना चाहे तो नोटबंदी के इस माहौल में क्या ममता मिलने के लिए राजी होंगी? यह बात जब उक्त शीर्ष अधिकारी से पूछी गई तो उन्होंने कहा कि आरबीआइ गवर्नर का पद संवैधानिक है। उक्त पद पर कौन बैठा है, यह जरूरी नहीं है। ऐसे में यदि वह मुख्यमंत्री से मिलना चाहेंगे तो नहीं मिलने की कोई वजह नहीं हो सकती।

आरबीआइ की ओर से कहा गया है कि गवर्नर जब किसी राज्य में बैंकों की बैठक में जाते हैं तो वह उन राज्यों के मुख्यमंत्री से भी मिलते हैं। यह एक परंपरा है इसीलिए मुख्यमंत्री से समय मांगा गया है। ऐसा नहीं है कि पहली बार ऐसा हो रहा है। इससे पहले 2010 में जब तत्कालीन आरबीआइ गवर्नर डी सुब्बाराव कोलकाता आए थे तो राज्य सचिवालय जाकर तत्कालीन मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य से मुलाकात की थी। 2011 में ममता और सुब्बाराव के बीच भी बैठक हुई थी। हालांकि, इस बार परिस्थिति भिन्न है क्योंकि ममता ने संवाददाता सम्मेलन कर गुजरात की एक पेट्रोलियम कंपनी पर 20 हजार करोड़ रुपए का कर्ज देकर उसे दिवालिया घोषित करने का आरोप लगाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.