December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

पुलिस चेकिंग में शराब पीने की पुष्टि हुई तो ब्रेथ एनालाइजर लेकर ही भाग गया शख्‍स, पकड़ा गया तो….

कोर्ट में वेदांत की गलती साबित होने पर उसे आईपीसी की धारा 392 के तहत अधिकतम 10 साल कारावास की सजा हो सकती है। नशे में ड्राइव करने के आरोप में उसे 6 महीने जेल या 2000 रुपये का जुर्माना भरना होगा।

कोलकाता में पुलिस ने एक 22 वर्षीय शख्स को नशे में गाड़ी ड्राइव करते हुए पकड़ा तो वह ब्रेथ एनेलाइजर ही लेकर भाग गया। (इस तस्वीर का इस्तेमाल खबर की प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।)

कोलकाता में पुलिस ने जांच के दौरान जब एक 22 वर्षीय लड़के को ड्रिंक एंड ड्राइव का दोषी पाया और इसकी पुष्टि करना चाहा तो वह लड़का पुलिस के हाथ से ब्रेथ एनेलाइजर (शराब पीने की पुष्टि करने वाली इलेक्ट्रॉनिक मशीन) ही छीनकर भाग खड़ा हुआ। हालांकि, पुलिस ने कुछ घंटों की छानबीन के बाद लड़के को उसके घर में आराम फरमाते हुए पकड़ा और उसे हवालात में बंद कर दिया।

पुलिस ने इस घटना के बारे में बताया, ‘रात करीब 10 बजकर 25 मिनट के आस पास नॉर्थ कोलकाता के गिरीश पार्क के रहने वाले वेदांत अग्रवाल को नबादीगंटा ट्रैफिक गार्ड के अधिकारियों की एक टीम ने निक्को पार्क के पास एसडीएफ क्रॉसिंग पर नशे में कार ड्राइव करते हुए पकड़ा। वेदांत अपने पिता की ह्यूंडई ईआॅन कार को बहुत ही तेज सपीड से चला रहा था। हमने उसे ब्रेथ एनेलाइजर टेस्ट कराने के लिए कहा। वह मना करने लगा लेकिन हमने जबरदस्ती उससे टेस्ट कराने के लिए कहा। वह गाड़ी चालू किए हुए था और अंदर ही बैठा था। हमारे कॉन्स्टेबल ने उसके मुंह में ब्रेथ एनेलाइजर डालकर जांत की तो पता चला कि उसने सामान्य से ज्यादा शराब पी रखी थी। जांच करने के बाद जब कॉन्स्टेबल अपने सीनियर अधिकारी को इसकी जानकारी देने गया तभी वेदांत ने गाड़ी भगा ली और ब्रेथ एनेलाइजर उसके जबड़े में ही फंसा रह गया।’

वीडियो: 40 दिनों के अभियान के बाद मारी गई आदमखोर बाघिन; 1 करोड़ का हुआ खर्च

बाद में पुलिस ने वेदांत की कार का पीछा किया लेकिन वह बहुत ही जल्द पुलिस की आंखों से ओझल हो गया। वह अपने घर में जाकर आराम कर रहा था। लेकिन, पुलिस ने उसकी कार का रजिस्ट्रेशन नंबर नोट कर लिया था और कुछ ही घंटों में वेदांत को उसके घर से पकड़कर हवालात में ले गई। पुलिस ने वेदांत के उपर नशे में ड्राइव करने के आलावा पुलिस से उसकी संपत्ति छीनने के आरोपों में मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 185 (ड्रिंक एंड ड्राइव) और आईपीसी की धारा 392 (छीना झपटी और लूटपाट) के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस ने वेदांत को गिरफ्तार करने के 24 घंटे के अंदर न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जहां से उसे तीन दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया। कोर्ट में वेदांत की गलती साबित होने पर उसे आईपीसी की धारा 392 के तहत अधिकतम 10 साल कारावास की सजा हो सकती है। वहीं, नशे में ड्राइव करने के आरोप में दोष साबित होने पर उसे 6 महीने जेल में बिताने होंगे या 2000 रुपये का जुर्माना भरना होगा।

Read Also: वीरेंद्र सहवाग ने ट्वीट कर बताया क्या है उनकी फेवरेट डिश, जानकर रह जाएंगे हैरान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 21, 2016 4:00 pm

सबरंग