ताज़ा खबर
 

इस कार से अंग्रेजों को चकमा देकर ‘सुरक्षित निकल गए थे’ नेताजी, AUDI को मिला मरम्मत का जिम्मा

जानकारी के मुताबिक 1941 में जब तात्कालीन ब्रिटिश सरकार ने उन्हें घर में नजरबंद किया था तब वह इसी कार से अपने कोलकाता स्थित घर से भागे थे। नेताजी का परिवार इस कार की मरम्मत करवा रहा है।
Author कोलकाता | September 7, 2016 20:27 pm
जर्मन वांडरर कार की मरम्मत का जिम्मा ऑडी को दिया गया (Photo Source: Netaji.org)

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के लापता होने को लेकर सालों से जारी बहस के बीच नेताजी की कार की मरम्मत कराई जा रही है। जानकारी के मुताबिक 1941 में जब तात्कालीन ब्रिटिश सरकार ने उन्हें घर में नजरबंद किया था तब वह इसी कार से अपने कोलकाता स्थित घर से भागे थे। नेताजी का परिवार इस कार की मरम्मत करवा रहा है। नेताजी रिसर्च ब्यूरो के मुताबिक नेताजी की कार की मरम्मत के लिए जर्मन ऑटो मोबाइल कंपनी ऑडी को चुना गया है।

ब्यूरो के सचिव कार्तिक चक्रबर्ती ने बताया कि कार की पेंटिंग और पुराने पार्ट्स की मरम्मत का काम शुरू कर दिया गया है। हम इसे इस लायक बनाना चाहते हैं कि कुछ दूरी करीब 100 या 200 मीटर चल सके। उन्होंने बताया कि कार की मरम्म्त का काम दिसंबर तक पूरा होने की उम्मीद है। नेताजी के इस कार पर BLA 7169 नंबर प्लेट लगी हुई है। 1941 में नेताजी के भतीजे शिशिर कुमार बोस इसे कोलकाता से झारखंड तक ले गए थे।

उन्होंने बताया कि इस कार को आखिरी बार 1971 में नेताजी के बड़े भाई शरत चंद्र बोस के बेटे शिशिर बोस द्वारा एक डॉक्यूमेंट्री की शूटिंग के दौरान चलाया गया था। कार्तिक ने बताया कि हमने इसे जनता को देखने के लिए रखा था पर कभी इसे रोड पर नहीं निकाला गया। हमारा स्टाफ नागा सुंदरम इस कार को चलाता था अब वो भी इस दुनिया में नहीं है। नेताजी रिसर्च बोस कृष्णा बोस और उनके बेटे सुगाता गोस के द्वारा चलाया जाता है। यह नेताजी भवन में स्थित है। जो कि बोस फैमिली का प्राचीन घर है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग