December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

500 और 1000 के नोट की वजह से कोलकाता के सेक्सवर्करों की चांदी

यौनकर्मियों के एक संगठन ने कहा, ‘टॉप श्रेणी के यौनकर्मियों को दिक्कतें नहीं आ रही हैं, लेकिन जो सिर्फ 300 या 400 रुपए लेती हैं, उन्हें बहुत दिक्कत हो रही है।’

Author कोलकाता | November 11, 2016 21:42 pm
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

देश में 500, 1000 रुपए के पुराने नोटों के प्रचलन बंद होने के कारण भले ही छोटे उद्योगपतियों को दिक्कतें आ रही हो, लेकिन दक्षिण एशिया के सबसे बड़े रेड-लाइट इलाके सोनागाछी में कारोबार तेजी से चल रहा है, क्योंकि वहां अभी भी पुराने नोट लिए जा रहे हैं। यौनकर्मियों के एक संगठन ‘दरबार महिला समन्वय समिति’ की संचालक भारती ने कहा, ‘हमारी लड़कियों से कहा गया है कि वे 500, 1000 रुपए के नोट स्वीकार करें। लेकिन वे ग्राहकों से कह रही हैं कि वे इस सप्ताह के बाद नोट स्वीकार नहीं करेंगी। इसलिए ग्राहकों की भारी भीड़ है।’

उन्होंने कहा, ‘टॉप श्रेणी के यौनकर्मियों को दिक्कतें नहीं आ रही हैं, लेकिन जो सिर्फ 300 या 400 रुपए लेती हैं, उन्हें बहुत दिक्कत हो रही है।’ संगठन का दावा है उसके तहत पूरे बंगाल में एक लाख से ज्यादा यौनकर्मी पंजीकृत हैं। ग्राहक पहले पूछ रहे हैं कि क्या वे 500, 1000 रुपए का नोट ले रही हैं। एक यौनकर्मी रेखा ने कहा, ‘यदि हम ना कहते हैं, तो ग्राहक चला जाएगा। हम नोट ले रहे हैं और दरबार तथा उषा बैंक ने आश्वासन दिया है कि हमारा पैसा बर्बाद नहीं होगा।’ पिछले दो दिनों में यौनकर्मियों से उषा मल्टीपरपस कोऑपरेटिव बैंक में 55 लाख रुपए जमा कराए हैं।

VIDEO: नोट बदलने के लिए बैंक पहुंचे राहुल गांधी, कतार में खड़े रहे; कहा- ‘लोगों का दर्द बांटने आया हूं’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 11, 2016 9:05 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग