ताज़ा खबर
 

हिज्बुल कमांडर इटू मारा गया, पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन

जिले के जैनापोरा इलाके के अवनीरा गांव में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना और सीआरपीएफ के विशेष अभियान समूह ने शनिवार रात घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया था।
Author श्रीनगर | August 14, 2017 02:09 am
फोटो का इस्तेमाल प्रतिकात्मक तौर पर किया गया है।

दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में शनिवार रात शुरू हुई एक मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिदीन के मुख्य अभियान कमांडर यासिन इटू उर्फ ‘गजनवी’ सहित तीन आतंकवादी मारे गए। मुठभेड़ में दो सैनिक सैनिक शहीद हो गए। जिले के जैनापोरा इलाके के अवनीरा गांव में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना और सीआरपीएफ के विशेष अभियान समूह ने शनिवार रात घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया था। तलाशी के दौरान आतंकियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी की जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। आतंकियों की गोलीबारी में पांच जवान घायल हो गए जिनमें से दो की बाद में मौत हो गयी। इससे सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी कर बाकी पेज 8 पर तड़के तक इंतजार किया और आतंकियों पर हमला किया। पूरी रात रुक-रुक कर गोलीबारी चलती रही और सुबह अभियान चरम पर पहुंच गया और सेना ने वहां घिरे तीनों आतंकियों को मार गिराया। उनकी पहचान तकनीकी दक्षता रखने वाले आतंकी इरफान और गजनवी की निजी सुरक्षा में लगे आतंकी उमर के रूप में हुई है।

पुलिस के अनुसार मध्य कश्मीर के बडगाम जिले का रहने वाले इटू लंबे समय से हिज्बुल मुजाहिदीन से जुड़ा हुआ था और सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में पिछले साल आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में शुरू हुई अशांति को बनाए रखने में संलिप्त था। उसने संगठन में कई युवाओं की भर्ती भी कराई थी। घटनास्थल से इटू द्वारा इस्तेमाल की गई एक केके सीरिज रायफल और साथ ही दो एके सीरिज रायफलें बरामद की गईं। इटू के मारे जाने को हिज्बुल के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है जिसके हालिया दिनों में कई कमांडर मारे जा चुके हैं।गोलीबारी में पांच जवान घायल हो गए जिन्हें वहां से निकालकर सेना के 92 बेस अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया। गंभीर रूप से घायल दो जवानों को बचाया नहीं जा सका और उनकी मौत हो गई। सेना के एक प्रवक्ता ने शहीद सैनिकों की पहचान तमिलनाडु निवासी सिपाही इलयाराजा पी और महाराष्ट्र निवासी सिपाही गवई सुमेध वामन के रूप में की है।

आतंकी हमले में तीन सुरक्षाकर्मी घायल

उत्तर कश्मीर के बांदीपुरा जिले में रविवार को सुरक्षा बलों की एक तलाशी टीम पर आतंकवादी हमले में थलसेना का एक जवान और दो पुलिसकर्मी घायल हो गए। एक पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में एक गुप्त सूचना मिलने के बाकी पेज 8 पर बाद सुरक्षा बलों ने रविवार सुबह जिले के हाजिन इलाके के वहाब पर्रे मुहल्ले में तलाशी और धरपकड़ अभियान शुरू किया था। प्रवक्ता ने बताया कि सुरक्षा बल जब तलाशी अभियान चला रहे थे कि तभी आतंकवादियों ने उन पर फायरिंग शुरू कर दी जिसमें दो पुलिस कांस्टेबल मुख्तार अहमद और मोहम्मद अशरफ व थलसेना के जवान राज कुमार जख्मी हो गए। उन्होंने कहा कि घायलों को एक अस्पताल में ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उनकी हालत स्थिर बताई है।उधर, शनिवार को जम्मू कश्मीर पुलिस के एक दल पर शनिवार को फेंके गए एक पेट्रोल बम में विस्फोट के कारण घायल हुए आम नागरिक की रविवार को यहां एक अस्पताल में मौत हो गई। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि शहर के हवाल इलाका निवासी इम्तियाज अहमद मीर की एसकेआइएमएस अस्पताल, शौरा में मौत हो गई। शहर के डलगेट इलाके में बादयारी चौक पर एक पुलिस दल पर फेंके गए पेट्रोल बम में विस्फोट होने से मीर घायल हो गये थे। दरअसल बम अपने तय लक्ष्य तक नहीं पहुंच पाया था और उसमें सड़क किनारे ही विस्फोट हो गया था। अधिकारी ने बताया कि मीर को एसएमएचएस अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां से उसे तड़के एसकेआइएमएस अस्पताल रेफर किया गया था, जहां उसकी मौत हो गई।

पाकिस्तान ने फिर किया संघर्षविराम का उल्लंघन

जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सेना ने रविवार को फिर से संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए छोटे हथियारों से गोलीबारी की। पिछले 24 घंटों में पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा के पास यह तीसरी बार संघर्षविराम का उल्लंघन है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि रविवार सुबह पुंछ जिले के मनकोट सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तानी सेना ने संघर्षविराम का उल्लंघन किया। संघर्ष विराम की इस घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।  नियंत्रण रेखा पर शनिवार को भी पाकिस्तानी सैनिकों ने दो बार संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए अग्रिम चौकियों और पुंछ सेक्टर के गांव में गोलीबारी की थी। इसमें एक जूनियर कमीशंड अधिकारी नायब सूबेदार जगराम सिंह तोमर शहीद हो गए और राकिया बी नाम की महिला की मौत हो गई थी। वहीं आठ अगस्त को पाकिस्तान की ओर से बिना किसी उकसावे के की गई गोलीबारी में सिपाही पवन सिंह सुगरा (21) की मौत हो गई थी। इस साल एक अगस्त तक पाकिस्तानी सेना की ओर से संघर्षविराम उल्लंघन की 285 घटनाएं हो चुकी हैं। साल 2016 में यह संख्या कम थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग