ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड: एनएच-74 घोटाले की सीबीआई से जांच कराने पर अड़ी कांग्रेस, बचाव में उतरा केंद्र

हाल में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के अध्यक्ष ने भी प्रदेश के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर एनएचएआई के अधिकारियों के नाम घोटाले पर दर्ज प्राथमिकी से निकाले जाने को कहा है।
Author May 31, 2017 19:03 pm
सड़क परिवहन, राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (File Photo)

एनएच-74 घोटाले पर केंद्र सरकार के लचर रवैये पर हमलावर होते हुए कांग्रेस ने बुधवार (31 मई) को कहा कि वह इस मसले को संसद से सड़क तक जोर शोर से उठायेगी। महिला कांग्रेस अध्यक्ष शोभा ओझा ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘जब भी कोई बड़ा मसला आता है तो भाजपा प्राथमिकी से ही घोटालेबाजों का नाम हटा देती है। हम इस मसले को जोर-शोर से संसद और संसद के बाहर उठायेंगे।’

उन्होंने कहा कि केंद्रीय सड़क परिवहन और राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी द्वारा राज्य सरकार को इस बाबत लिखा गया पत्र यह दिखाता है कि ‘चोर की दाढ़ी में तिनका’ है। उत्तराखंड में उधमसिंह नगर में एनच-74 के चौड़ीकरण के लिये अधिग्रहित भूमि के एवज में बांटी गयी मुआवजा राशि में करीब 300 करोड़ रुपये के कथित घोटाले की बात सामने आयी थी। हरीश रावत के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में हुए इस कथित घोटाले का पर्दाफाश करने वाली कुमाऊं आयुक्त की जांच रिपोर्ट का मुख्यमंत्री रावत ने मार्च में पद संभालने के बाद तत्काल संज्ञान लिया और उपजिलाधिकारी स्तर के अधिकारियों समेत कई को तत्काल निलंबित करते हुए मामले की सीबीआई जांच की सिाफारिश की थी।

हालांकि, दो माह से ज्यादा गुजर जाने के बावजूद केंद्र द्वारा सीबीआई जांच के संबंध में अब तक कोई कार्रवाई शुरू नहीं हो पायी है। इसी बीच, गडकरी द्वारा मुख्यमंत्री रावत को पत्र लिखकर जांच से अधिकारियों के मनोबल पर विपरीत असर पड़ने तथा प्रदेश में परियोजनाओं के निर्बाध संचालन में बाधा आने का हवाला देते हुए जांच पर पुनर्विचार के लिये कहने से प्रदेश में सियासी तूफान आ गया।

हाल में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के अध्यक्ष ने भी प्रदेश के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर एनएचएआई के अधिकारियों के नाम घोटाले पर दर्ज प्राथमिकी से निकाले जाने को कहा है। मुख्यमंत्री रावत द्वारा जांच की बात कहे जाने के बावजूद विपक्षी कांग्रेस इस मुद्दे को लेकर भाजपा सरकार पर हमलावर है और उस पर घोटाले के लिये जिम्मेदार ‘बड़ी मछलियों’ को बचाने का आरोप लगा रही है।

इसके अलावा, शोभा ने मोदी सरकार के तीन सालों का आंकलन भी पेश किया और कहा कि उनके ज्यादातर वादे ‘मुंगेरीलाल के हसीन सपने’ ही साबित हुए हैं। उन्होंने कहा, ‘हम पूछना चाहते हैं कि हर साल दो करोड़ रोजगार देने के वादे का क्या हुआ।’

किसानों की आत्महत्याओं का जिक्र करते हुए कांग्रेस नेत्री ने कहा कि केंद्र ने किसानों द्वारा लिये गये 50 हजार करोड़ रुपये का ऋण अभी तक माफ नहीं किया है। यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस की चुनावों में लगातार हार के मद्देनजर पार्टी को मजबूत करने के लिये क्या किसी ठोस नीति पर काम हो रहा है, उन्होंने कहा कि हम जनता की शिकायतों को सुनेंगे और पार्टी एक बार फिर से मजबूती के साथ उभरेगी।

देखिए वीडियो - उत्तर प्रदेश के बाद उत्तराखंड में भी सार्वजनिक स्थलों पर थूकना मना; 5000 रुपए जुर्माना, हो सकती है 6 महीने जेल की सजा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.