ताज़ा खबर
 

100 रुपए के नोट नहीं थे तो मरीज को नहीं किया डिस्चार्ज , बुलानी पड़ी पुलिस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार शाम को 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने की घोषणा की थी।
Author देहरादून | November 9, 2016 18:30 pm
(तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।)

प्रधानमंत्री नरेंद्र के 500 और 1000 रुपए को नोट बंद करने के फैसले से आमजन को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। इस फैसले के बाद से ही दुकानदारों ने 500 और 1000 रुपए के नोट लेने से मना कर दिया था। ऐसा ही मामला हिमाचल प्रदेश के रुद्रपुर में एक मरीज को अस्पताल से इसलिए डिस्चार्ज नहीं किया गया, क्योंकि उसके परिजनों के पास 100-100 के नोट नहीं थे। अस्पताल के डॉक्टर ने 500 और 1000 के नोट लेने से मना कर दिया था। इसके बाद पुलिस ने वहां पर पहुंचकर मामले को निपटाया है। ऐसा ही एक केस मध्यप्रदेश में देखने को मिला है, जहां 100 रुपए के नोट नहीं होने की वजह से एक बुजुर्ग महिला का अंतिम संस्कार नहीं हो पा रहा है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रीना नाम की महिला को डिलीवरी के लिए एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसके बाद उन्हें बुधवार को डिस्चार्ज करना था। रीना का कुल बिल 22 हजार रुपए का बना था, जब बाकी का बिल भुगतान करने की बारी आई तो रीना के परिजनों के पास 100 रुपए के नोट नहीं थे, उन्होंने 500 रुपए के नोट दिए। लेकिन अस्पताल के डॉक्टर ने 500 और 1000 के नोट देने से मना कर दिया। इसके बाद अस्पताल में काफी हंगामा हुआ।

वीडियो में देखें- 500, 1000 के नोट बंद होने से नहीं हो पा रहा महिला का अंतिम संस्‍कार

हंगामा होने के बाद पुलिस को बुलाया गया। हालांकि, पुलिस के पहुंचने पर भी डॉक्टर मरीज का डिस्चार्ज करने से राजी नहीं हुआ। इसके बाद डॉक्टर को समझाया गया। डॉक्टर इस बात पर राजी हुई कि वे अभी 500 रुपए लेने लेगी, लेकिन रीना के पति को दो सप्ताह बाद नए नोट आने पर वे नोट बदलने होंगे।

बता दें, सरकार ने इन नोटों के बंद करने की घोषणा के साथ ही कहा था कि 11 नवंबर तक सरकारी सेवाओं में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट लिए जाएंगे। इनमें सरकारी बसें, रेलवे, अस्‍पताल, एयरपोर्ट पर पुराने नोट लिए जाएंगे। इसके बाद बुधवार को परिवहन मंत्री नितिन गड़करी ने बुधवार को घोषणा की कि देश के सभी नेशनल हाईवे पर टोल टैक्स नहीं लगेगा।

वीडियो में देखें- 500 और 1000 रुपए के नोट बंद- मोदी सरकार के फैसले पर क्‍या सोचती है जनता

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग