ताज़ा खबर
 

यूपी को कुपोषण मुक्‍त करने के लिए ‘शबरी संकल्‍प अभियान’ चलाएंगे योगी आदित्‍य नाथ, 100 दिन में बनेगा ब्‍लू प्रिंट

योगी ने राज्य पोषण मिशन का प्रस्तुतीकरण देखते हुए कहा कि प्रदेश में कुपोषण की स्थिति काफी गम्भीर है।
Author April 22, 2017 17:04 pm
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे ‘शबरी संकल्प अभियान’ का ब्लू प्रिंट 100 दिन में तैयार करे। (PTI)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य को कुपोषण मुक्त बनाने के लिए ‘शबरी संकल्प अभियान’ की रूपरेखा 100 दिन में तैयार कर इसे लागू करने के लिए कहा है। योगी ने कल देर रात बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग का प्रस्तुतिकरण देखते हुए कहा, ‘‘कुपोषण को खत्म करने के लिए पोषण विशिष्ट तथा पोषण संवेदनशील हस्तक्षेप की आवश्यकता है। प्रदेश में मातृ एवं बाल कुपोषण को कम करने के लिए विशेष प्रयास करने होंगे। राज्य सरकार मातृ, शिशु एवं किशोरियों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएगी।’’

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे लोक कल्याण संकल्प-पत्र में उल्लेखित ‘शबरी संकल्प अभियान’ की रूपरेखा अगले 100 दिन के अन्दर तैयार कर इसका प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित करें। इसके माध्यम से अगले पांच साल में प्रदेश को कुपोषण मुक्त बनाने की दिशा में कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रदेश की उन्नति एवं विकास तभी संभव है, जब वहां के निवासी स्वस्थ, सबल हों। स्वस्थ और क्षमतावान जनशक्ति की उपलब्धता तभी सम्भव है, जब मातृ एवं शिशु दोनों स्वस्थ होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शबरी संकल्प पोषण योजना के तहत यह सुनिश्चित किया जाए कि जन्म के समय किसी भी बच्चे का वजन ढाई किलो से कम न हो। उन्होंने इसके लिए लाभार्थियों को बड़े पैमाने पर पौष्टिक आहार उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उन्होंने वर्तमान में उपलब्ध करायी जा रही खाद्य सामग्री के नमूनों का प्रस्तुतिकरण के दौरान स्वयं निरीक्षण भी किया।

उन्होंने कहा कि कुपोषण से निपटने के लिए सबसे पहले इससे प्रभावित गांवों को चिन्हित किया जाए, तत्पश्चात इससे लड़ने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाएं। उन्होंने पोषण जागरूकता अभियान की आवश्यकता पर बल दिया।

योगी ने बाल विकास एवं पुष्टाहार के तहत लाभार्थियों का शत-प्रतिशत सत्यापन कर उनकी अद्यतन सूची तैयार कर उसके डिजिटीकरण के निर्देश दिये, ताकि लाभार्थियों को विभिन्न योजनाओं के तहत उपलब्ध कराये जा रहे लाभ का रिकॉर्ड रखा जा सके और उनकी निगरानी की जा सके।

मुख्यमंत्री ने बाल विकास पुष्टाहार विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे राज्य से कुपोषण जैसी व्याधि से निपटने के लिए जी जान से कार्य करें और मातृ, शिशु तथा किशोरियों के स्वास्थ्य को सुधारने के साथ-साथ कुपोषण को समाप्त करने के लिए हरसम्भव प्रयास करें।

योगी ने राज्य पोषण मिशन का प्रस्तुतीकरण देखते हुए कहा कि प्रदेश में कुपोषण की स्थिति काफी गम्भीर है। ऐसे में इसके प्रभावों से निपटने के लिए इसके कारणों का पता लगाना होगा, ताकि इसे जड़ से दूर किया जा सके। उन्होंने कहा कि इसकी रोकथाम सही समय पर की जाए तो इससे निपटा जा सकता है। उन्होंने ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवस को और प्रभावी ढंग से लागू करने के निर्देश दिये।
उन्होंने कहा कि इसके तहत ज्यादा से ज्यादा बच्चों का वजन लेने के साथ-साथ उनका टीकाकरण सुनिश्चित किया जाए, जबकि उनकी माताओं के रक्तचाप और खून तथा वजन की भी जांच की जाए। इसमें ग्राम प्रधान की सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित की जाए।

देखिए वीडियो - योगी के मंत्री सत्यदेव पचौरी ने दिव्यांग सफाई कर्मचारी से किया दुर्व्यवहार; कहा- "लूले लंगड़ों को काम पर रखा है"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.