ताज़ा खबर
 

यूपी विधानसभा में पार्टियों ने सजावट पर जमकर खर्च किया सरकारी पैसा, भाजपा सबसे आगे

विधानसभा में राष्ट्रीय लोकदल के सदस्यों की संख्या भले ही कम हो लेकिन अपने कमरे को सजाने संवारने में यह पार्टी भी किसी से पीछे नही रही।
उत्‍तर प्रदेश विधानसभा में सीएम योगी आदित्‍य नाथ। (PTI Photo)

विभिन्न राजनीतिक दलों के, उत्तर प्रदेश विधानसभा में स्थित विधानमंडल कार्यालयों की साज-सज्जा आदि कार्यों में सरकारी खजाने के लाखों रूपये व्यय हुए हैं। भारतीय जनता पार्टी के कार्यालय के लिए सर्वाधिक 27 लाख रूपये से अधिक खर्च हुए है जबकि सबसे कम करीब 21 लाख रूपये राष्ट्रीय लोकदल के कार्यालय की साज सज्जा में लगे है। विधानसभा स्थित इन कार्यालयों में पार्टी के नेता अमूमन तब बैठते हैं जब विधानसभा का सत्र चल रहा होता है। उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा द्वारा हाल ही में विधानपरिषद में दी गयी जानकारी के अनुसार पिछले पांच सालों में भाजपा के विधानमंडल दल कार्यालय में 19 लाख 23 हजार रूपये बिजली कार्यो हेतु खर्च हुये तथा आठ लाख 48 हजार रूपये साज सज्जा में खर्च हुये। इसमें रंर्गाइ पुताई के खर्चे शामिल नहीं है। इसी तरह समाजवादी पार्टी के कार्यालय में विद्युत कार्यो हेतु 19 लाख 21 हजार रूपये तथा सात लाख 99 हजार रूपये अन्य साज सज्जा में खर्च किये गये। कांग्रेस पार्टी के विधानमंडल कार्यालय में 16 लाख 86 हजार रूपये विदयुत कार्यो में तथा पांच लाख 34 हजार रूपये साज सज्जा हेतु खर्च किये गये।

विधानसभा में राष्ट्रीय लोकदल के सदस्यों की संख्या भले ही कम हो लेकिन अपने कमरे को सजाने संवारने में यह पार्टी भी किसी से पीछे नही रही। सरकारी आंकड़ों के अनुसार राष्ट्रीय लोकदल ने अपने कार्यालय की साज सज्जा के लिये 15 लाख 16 हजार रूपये तथा बिजली के कामों के लिये पांच लाख 87 हजार रूपये खर्च किये। यही नहीं निर्दलीय व अन्य छोटी पार्टियों के कार्यालयों में भी चार लाख 83 हजार रूपये सिविल कार्यो के लिये और 19 लाख 46 हजार रूपये बिजली संबंधित कार्यो में खर्च हुये है। यह खर्च विभिन्न पार्टियों के कार्यालयों में हर साल होने वाली रंगाई -पुताई और अन्य मरम्मत आदि के खर्चो से इतर है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on July 16, 2017 3:40 pm

  1. No Comments.
सबरंग