ताज़ा खबर
 

परिवार को मारने की धमकी देकर नाबालिग के साथ एक महीने तक होता रहा बलात्कार

एक ही जिले के होने के चलते आरोपी का किशोरी के घर आना-जाना था।
Author नोएडा/नई दिल्ली | May 8, 2017 03:57 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

नोएडा सेक्टर-44 के छलेरा गांव में एक किशोरी को जान से मारने की धमकी देकर युवक एक महीने तक उसके साथ बलात्कार करता रहा। शनिवार को किशोरी के रोने पर परिजनों ने उससे पूछताछ की, तो उसने सारी बात बता दी। परिजन किशोरी को लेकर थाना सेक्टर-39 पहुंचे। शिकायत के आधार पर पुलिस ने किशोरी की मेडिकल जांच कराई। एसएचओ राकेश भदौरिया ने बताया कि मेडिकल जांच में 14 साल की किशोरी के साथ बलात्कार की पुष्टि हुई है। आरोपी को रविवार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। आरोपी किशोरी के परिजनों का परिचित है। जानकारी के मुताबिक, किशोरी के साथ बलात्कार के आरोप में पुलिस ने रांची के अशोक सरकार (25) को गिरफ्तार किया है। पीड़ित परिवार भी रांची का रहने वाला है। किशोरी अपने परिवार के साथ हरौला गांव में रहती है। आरोपी अशोक दो महीने पहले तक उनके पड़ोस में रहता था। एक ही जिले के होने के चलते आरोपी का किशोरी के घर आना-जाना था।

महरौली थाने पर लोगों ने किया हंगामा
दक्षिणी जिले के महरौली थाने के बाहर शनिवार देर रात से रविवार सुबह तक लोगों ने जमकर प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि पार्क में खेलने के नाम पर दो समुदायों के बच्चों के बीच हुए झगड़े पर जब स्थानीय लोग थाने पहुंचे तो पुलिसवालों ने उनकी बातें सुनने के बजाए उनके साथ दुर्व्यवहार किया। रविवार सुबह जब प्रदर्शनकारी उग्र होने लगे तो जिले के आला पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और पांच आरोपी पुलिसवालों पर कार्रवाई का आश्वासन देकर उन्हें शांत कराया।  बताया जा रहा है कि महरौली के एक पार्क में शनिवार को कुछ बच्चे खेल रहे थे, तभी उनका आपस में झगड़ा हो गया। बताया यह भी जा रहा है कि यह झगड़ा एक खास समुदाय के लोगों और एक राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं के बीच हुआ और मामला थाने तक पहुंच गया। राजनीतिक दल के लोग स्थानीय पार्षद को लेकर महरौली थाने पहुंचे और दूसरे समुदाय के लोगों पर कार्रवाई की मांग करने लगे।

पुलिस ने जब कहा कि पहले शिकायत दर्ज कराएं, बाद में कार्रवाई होगी तो वे नाराज हो गए। आरोप है कि इतने में पुलिसवाले भी आपा खो बैठे और उन्हें थाने से बाहर निकालने का आदेश दे दिया। जैसे ही वहां मौजूद अन्य पुलिसकर्मियों ने उन लोगों को बाहर निकालने की कोशिश की तो दोनों तरफ से धक्का-मुक्की होने लगी। इसके बाद प्रदर्शन शुरू हो गया और इलाके के सामाजिक कार्यकर्ता धरने पर बैठ गए। रात करीब दस बजे तक यह प्रदर्शन चला।  रविवार सुबह भी प्रदर्शनकारी थाने के बाहर जमा हो गए और हंगामा करने लगे। सूचना मिलते ही जिले के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे और उन्हें समझा-बुझाकर पांच आरोपी पुलिसवालों पर कार्रवाई का भरोसा देकर शांत कराया।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.