ताज़ा खबर
 

नोएडा- पांच साल के बच्चे की स्कूल में पिटाई से मौत

मृत बच्चे के पिता अशोक के मुताबिक चिकित्सालय के डॉक्टरों ने दो दिन तक इलाज नहीं किया। परिजनों ने डॉक्टरों पर रुपए मांगने का भी आरोप लगाया है।
Author नोएडा | July 24, 2017 01:07 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है (फाइल फोटो)

नोएडा के सेक्टर-63 की चोटपुर कॉलोनी में रहने वाले पांच साल के बच्चे की रविवार सुबह सेक्टर-30 स्थित बाल चिकित्सालय और पीजीआइ में इलाज के दौरान मौत हो गई। बच्चे की मौत से बौखलाए परिजनों ने अस्पताल में हंगामा किया। पुलिस ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। मृत बच्चे के पिता अशोक के मुताबिक चिकित्सालय के डॉक्टरों ने दो दिन तक इलाज नहीं किया। परिजनों ने डॉक्टरों पर रुपए मांगने का भी आरोप लगाया है। बच्चे के बीमार होने को लेकर परिजनों ने स्कूल की एक शिक्षिका पर पिटाई का आरोप लगाया है। परिजनों ने शिक्षिका के खिलाफ एक शिकायत थाना फेज-3 पुलिस को दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।  सेक्टर-63 की चोटपुर कॉलोनी में रहने वाले पांच साल के आयुष की 19 जुलाई को स्कूल की टीचर ने पिटाई कर दी थी।

आयुष नवीन ज्ञान सरस्वती पब्लिक स्कूल में नर्सरी का छात्र था। उसका नामांकन 12 जुलाई को हुआ था। वह 19 जुलाई को पहली बार स्कूल गया था। उसके पिता अशोक ने बताया कि स्कूल से लौटने पर आयुष बहुत घबराया हुआ था। पूछने पर उसने बताया कि उसकी शिक्षिका अनीता ने उसे पीटा है। अशोक ने बताया कि आयुष ने उस दिन से खाना-पीना छोड़ दिया। 20 जुलाई को सुबह 10.30 बजे उसके परिजन उसे लेकर सेक्टर-30 के बाल बाकी पेज 8 पर चिकित्सालय पहुंचे। वहां डॉक्टरों ने उसे भर्ती नहीं किया और शाम 5:30 बजे लाने को कहा। शाम को ले जाने पर आयुष की डॉक्टरों ने जांच की और दिमाग की एमआरआइ कराई। इसके आधार पर डॉक्टरों ने उसका इलाज किया। रविवार सुबह उसकी मौत हो गई। बाल चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डीके सिंह ने डॉक्टरों पर रुपए मांगने के आरोप को गलत बताया। उन्होंने मौत की वजह न्यूरोलॉजिकल डिसआर्डर (दिमाग में सूजन) बताया है। थाना फेज-3 के थाना प्रभारी अवनीश दीक्षित ने बताया कि परिजनों ने स्कूल की शिक्षिका के खिलाफ शिकायत दी है। मामले की जांच की जा रही है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग