December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

आज से होगी नोटबंदी की असली परीक्षा

30 नवंबर को फैक्ट्रियों के कर्मचारियों को नकद में मिला वेतन, 500 और हजार के पुराने नोट थमाए।

Author नोएडा | December 1, 2016 04:31 am
एफडी की जगह म्युचुअल फंड में करें निवेश। सांकेतिक तस्वीर। (Photo Source: AP)

500 और हजार रुपए के नोट बंद होने का असली असर गुरुवार को दिखाई देगा। नौकरी करने वाले काफी संख्या में कर्मचारियों की तनख्वाह बुधवार को ही उनके खाते में ट्रांसफर कर दी गई है। काफी संख्या में कर्मचारियों को नकद तन्ख्वाह तो मिली लेकिन पुराने 500 रुपए के नोट थमाए गए। जिसके कारण खाते से तन्ख्वाह की रकम और 500 रुपए के नोट जमा कराने वाले गुरुवार से बैंकों की लाइन में लगेंगे। जबकि ज्यादातर सरकारी या गैर सरकारी संस्थानों में काम करने वालों की 1 दिसंबर को तन्ख्वाह उनके खाते में ट्रांसफर की जाएगी। जानकारों के मुताबिक, ये दोनों वजहें आने वाले हफ्ते में बैंकों के अलावा आम लोगों के आगे बड़ी परेशानी की वजह बनेंगे। स्कूल की फीस तो चेक से दी जा सकती है लेकिन ट्यूशन, स्कूल बस या वैन समेत ज्यादातर भुगतान महीने के शुरुआती सप्ताह में नकद में किए जाने हैं। उधर, बुधवार को बैंकों में मिलने वाली करंसी के मुकाबले दो से तीन गुना रकम पहुंचने का बैंक प्रबंधकों का दावा भी झूठा साबित हुआ। सुबह से लाइन में लगे लोगों को बैंक खुलने के महज दो घंटे बाद लौटना पड़ा क्योंकि नकदी खत्म होने का नोटिस चस्पा कर दिया गया था।

शहर के उद्यमियों के संगठन नोएडा एंटर प्रिन्योर्स असोसिएशन के सदस्यों के अनुसार शहर के करीब 6500 बड़े- छोटे उद्योगों में लाखों लोग काम करते है। अधिकांश को नकद में तनख्वाह 30 नवंबर को पुराने 500 रुपए के नोट में देनी पड़ी है। 1 दिसंबर को खातों में तनख्वाह ट्रांसफर की जाएगी। इस वजह से बैंकों को रोजाना मिलने वाली करंसी के मुकाबले 2-3 गुना ज्यादा आने की बात बताई गई थी। सेक्टर-16 के पंजाब नैशनल बैंक की शाखा के बाहर लगी लाइन सुबह 10 बजे खुली। दोपहर करीब 12 बजे तक महज 50 लोगों के अंदर जाने के बाद ही नकदी खत्म होने का नोटिस चस्पा कर दिया गया। इसे लेकर लोगों ने बैंक प्रबंधकों पर चहेतों को नकदी देने के आरोप लगाए। दूसरी तरफ उद्यमियों के दावे से विपरीत सेक्टर- 11 के एक बैंक के बाहर रुपए जमा कराने की लाइन में खड़े नितिन वर्मा ने बताया कि प्रबंधन ने तन्ख्वाह के रूप में 1 हजार रुपए के 10 नोट दिए हैं। अब उन्हें जमा कराने के लिए लाइन में लगना पड़ रहा है। सेक्टर- 6 की यूनियन बैंक, सेक्टर- 2 की स्टेट बैंक, सेक्टर- 1 की स्टेट बैंक आॅफ पटियाला समेत सभी जगहों पर एक जैसा ही हाल था। बैंक में अंदर उन्हें भेजा गया, जिन्हें जमा कराने थे। जबकि खाते से निकालने वालों को काफी इंतजार कराने के बाद 4-6 हजार रुपए ही मिल सके।

 

 

राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट हैक; किए गए गांधी परिवार के बारे में आपत्तिजनक ट्वीट

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on December 1, 2016 4:31 am

सबरंग