December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

नोएडा: प्रदूषण रोकने में नाकाम 11 बिल्डरों पर लगा जुर्माना

प्राधिकरण अधिकारियों ने 11 बिल्डर परियोजनाओं पर रोकथाम संबंधी प्रबंध नहीं होने के कारण 50-50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया।

Author नोएडा | November 29, 2016 04:43 am
राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ।

नोएडा में वायु प्रदूषण को लेकर राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के आदेशों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई सोमवार को भी जारी रही। प्राधिकरण अधिकारियों ने 11 बिल्डर परियोजनाओं पर रोकथाम संबंधी प्रबंध नहीं होने के कारण 50-50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया। जुर्माना लगाने के अलावा नियमानुसार धूल, मिट्टी आदि को उड़ने से रोकने के उपाय करने के भी निर्देश दिए। प्राधिकरण के उप मुख्य कार्यपालक अधिकारी एस श्रीवास्तव के नेतृत्व में प्राधिकरण अधिकारियों के दस्ते ने विभिन्न इलाकों का निरीक्षण किया और खुले में पड़ी निर्माण सामग्री और डंपरों से धूल-मिट्टी उड़ने को लेकर बिल्डरों पर जुर्माना लगाया। बिल्डरों को एक हफ्ते के भीतर जुर्माने की रकम प्राधिकरण को जमा करानी है। साथ ही 24 घंटे के भीतर धूल उड़ने से रोकने के लिए छिड़काव, खुले में पड़ी निर्माण सामग्री तिरपाल से ढंकने और इमारत के चारों तरफ धूल सोखने वाली हरी जाली आदि लगानी होगी।
प्राधिकरण अधिकारियों के अनुसार पिछले 3 दिनों में 42 बिल्डर परियोजनाओं और रेडी मिक्स प्लांटों पर जुर्माना लगाया गया है। ज्यादातर नामी-गिनामी बिल्डरों पर भी जुर्माना लगाया गया है।

जुर्माना लगाने के बाद भी हालात में जमीनी स्तर पर सुधार नहीं होने पर परियोजना स्थल को सीज करने का भी प्रावधान है, जिसकी जांच के लिए प्राधिकरण ने एक औचक जांच दस्ता भी बनाया है। इसके अलावा एनजीटी के आदेश और वायु प्रदूषण रोकने के लिए जरूरी उपायों को लेकर प्राधिकरण ने सभी बिल्डरों और निर्माण स्थलों को नोटिस जारी किए हैं। उधर, एनजीटी के आदेशों का अनुपालन कराने में नोएडा पुलिस भी मुख्य भूमिका निभाने लगी है।

 

 

लोकसभा में पीएम मोदी की अनुपस्थिति पर मलिकार्जुन खड़गे ने उठाया सवाल; राजनाथ सिंह ने किया बचाव

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 29, 2016 4:43 am

सबरंग