ताज़ा खबर
 

बहुराष्ट्रीय कंपनियों और नामी स्कूलों में नौकरी दिलाने के नाम पर करते थे ठगी, आठ गिरफ्तार

पूछताछ के बाद पुलिस ने युवक-युवतियों को छोड़ दिया है। ठगी के मुख्य आरोपी दिल्ली के लक्ष्मी नगर निवासी कबीर और मध्यप्रदेश छतरपुर के रहने वाले रवींद्र को गिरफ्तार किया गया है।
Author नोएडा | August 31, 2017 03:58 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

बहुराष्ट्रीय कंपनियों और स्कूलों में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों की ठगी करने के आरोप में थाना सेक्टर-20 पुलिस ने सेक्टर-18 इलाके से छह युवतियों और दो युवकों को हिरासत में लिया है। आरोप है कि यह लोग शाइन डॉट कॉम पर बायोडाटा अपलोड करने वालों से संपर्क कर नौकरी दिलाने के नाम पर रुपए ठगते थे। करीब 100 से ज्यादा लोगों से आरोपी ठगी कर चुके हैं। हालांकि, पूछताछ के बाद पुलिस ने युवक-युवतियों को छोड़ दिया है। ठगी के मुख्य आरोपी दिल्ली के लक्ष्मी नगर निवासी कबीर और मध्यप्रदेश छतरपुर के रहने वाले रवींद्र को गिरफ्तार किया गया है।  पुलिस के मुताबिक, सेक्टर-18 के जेओपी प्लाजा में एडवांस प्लानिंग ट्रेनिंग के नाम पर दफ् तर चल रहा है। जहां 8 युवतियां और 2 युवक काम करते हैं। बताया गया है कि इन लोगों ने साइन डॉट कॉम पर अपलोड होने वाले बायोडाटा अपने पास रखे हुए थे। नौकरी के इच्छुक लोगों को छांटकर नौकरी दिलाने के नाम पर संपर्क करते थे। खास तौर पर दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, गाजियाबाद और मेरठ आदि इलाकों के रहने वालों को निशाना बनाते थे।

ठगी की शिकार फरीदाबाद की रहने वाली मनीषा भारद्वाज से दो महीने पहले डीपीएस में नौकरी दिलाने के नाम पर आरोपियों ने संपर्क किया था। जिसके एवज में दो बार में उनसे 20-20 हजार रुपए लिए थे। पिछले दिनों नौकरी लगने का पत्र थमाया था। इस पत्र को लेकर मनीषा जब डीपीएस स्कूल पहुंची, तो पता चला कि वहां कोई भर्ती नहीं है। ठगी का पता चलने पर थाना सेक्टर- 20 से शिकायत की। इसी तरह हरियाणा के रहने वाले रजत को भी बहुराष्ट्रीय कंपनी में नौकरी लगवाने का झांसा दिया था। जिसके एवज मेें 10 हजार रुपए लिए थे। कुछ महीनों के इंतजार के बाद भी जब नौकरी नहीं लगी, तब ठगी करने वालों ने उसका फोन उठाना बंद कर दिया। रजत ने भी थाना सेक्टर-20 से शिकायत की। थाना सेक्टर-20 के एसएचओ अनिल कुमार शाही ने बताया कि कबीर और रवींद्र को ठगी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। वहां काम करने वाले युवक-युवतियों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.