ताज़ा खबर
 

यूपी: मऊ में नमाज पढ़कर निकल रहे शख्स को गोली मारी, मस्जिद में मांस भी फेंका

मऊ में पहले भी साम्प्रदायिक हिंसा हो चुकी है, इसलिए प्रशासन हालात पर नजर बनाए हुए है।
मस्जिद के बाहर और गांव में भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया है। पुलिस हत्यारे की तलाश कर रही है। (स्क्रीनशॉट)

योगी आदित्यनाथ के शासन काल में अपराधियों के हौसले पस्त नहीं हो सके हैं। उत्तर प्रदेश के मऊ में फिर से साम्प्रदायिक हिंसा भड़काने की कोशिश हुई है। वहां मस्जिद में नमाज पढ़कर निकल रहे एक शख्स को आज (शुक्रवार को) बाइक सवार बदमाशों ने गोली मार दी, जिससे उसकी मौत हो गई। इसके बाद हत्यारों ने मस्जिद में सूअर का मांस भी फेंक दिया। इस घटना के बाद से इलाके में तनाव है। हालांकि मौके पर पुलिस और प्रशासन के अधिकारी कैम्प कर रहे हैं। मामला मऊ जिले के नसीरगांव का है। मस्जिद के बाहर और गांव में भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया है। पुलिस हत्यारे की तलाश कर रही है। मऊ में पहले भी साम्प्रदायिक हिंसा हो चुकी है, इसलिए प्रशासन हालात पर नजर बनाए हुए है।

एबीपी न्यूज के मुताबिक बाइक पर दो लोग सवार थे। उनमें से एक ने 17 साल की नसीर को मस्जिद से बाहर आते ही गोली मार दी। हालांकि किसी ने उन दोनों हत्यारों की पहचान नहीं की। मस्जिद ग्रामीण इलाके में है, इसलिए वहां कोई सीसीटीवी कैमरा भी नहीं लगा हुआ है, जिससे कि पुलिस को कोई सुराग हाथ लग सके। लेकिन घटना के इतने समय बाद भी किसी की गिरफ्तारी नहीं होने से गांववाले नाराज हैं।

गौरतलब है कि योगी आदित्य नाथ की सरकार बनने के बाद भी यूपी के कई इलाकों में साम्प्रदायिक और जातीय तनाव फैले हैं। अलीगढ़ से लेकर सहारनपुर तक योगी राज में कई हिंसक घटनाएं हुई हैं। हालांकि, सत्ता संभालते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने राज्य में कानून व्यवस्था लागू करने को अपनी पहली जिम्मेदारी बताई थी। उन्होंने कहा था कि या तो अपराधी यूपी छोड़ दें या अपराध छोड़ दें। बावजूद इसके यूपी में न तो अपराध कम हुए और न ही अपराधी यूपी छोड़कर गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.