ताज़ा खबर
 

5000 महीना कमाने वाली महिला के जन धन खाते में आए 99.99 करोड़, बैंक ने मदद नहीं की तो लिखा पीएम नरेंद्र मोदी को ईमेल

बैंक अधिकारियों ने इसे तकनीकी गलती बताते हुए कहा कि इस मामले की जांच की जा रही है।
2000 के नए नोट। (Photo:PTI)

यूपी के मेरठ में ताजा मामला देखने को मिला है जहां एक फैक्टी में काम करने वाली महिला के जनधन खाते में 99 करोड़ पर महिला और उसका पति दंग रह गए। महिला को इस बारे में तब पता लगा जब उसने चार अलग—अलग खातों से बैलेंस स्लिप निकाली। बैलेंस स्लिप में इतनी बड़ी रकम देखकर महिला और उसका पति दोनों दंग रहे गए।

हालांकि महिला और उसके पति ने शारदा रोड स्थित एसबीआई की ब्रांच में शिकायत की । लेकिन बैंक अधिकारियों से उन्हें कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। इसके अलावा बैंक अधिकारियों ने इसे तकनीकी गलती बताते हुए कहा कि इस मामले की जांच की जा रही है। बताया जा रहा है कि माधवपुरम निवासी शीतल मोहकमपुर में ट्रॉफी और मोमेंटो बनाने वाली फैक्ट्री में पैकजिंग का काम करती है जहां उसकी मासिक सैलरी पांच हजार रूपये है।। वहीं उसका पति जिलेदार यादव ट्रांसफार्मर बनाने वाली कंपनी में काम करता है।

शीतल के पति का कहना कि यह बात सामने आने पर कि उसकी पत्नि के खाते में 99 करोड़,99 लाख, 99 हजार 394 रूपये हैं तब से उनका पूरा परिवार काफी परेशान है। वहीं इस सबसे परेशान शीतल और उसके पति ने पीएम मोदी को ईमेल भेजकर मदद की गुहार लगाई है। गौरतलब है कि शीतल ने साल 2015 में शारदा रोड स्थित एसबीआई ब्रांच में जनधन खाता खुलवाया था। 18 दिसबंर को जब उन्होंने बैलेंस स्लिप निकाली और उसमें 99 करोड़ की राशि देखने के बाद वह हैरान रह गए ।

नोटबंदी के बाद ऐसे कई मामले सामने आ रहे हैं जहां कालेधन को सफेद बनाने के लिए जनधन खातों का इस्तेमाल किया जा रहा है। जनधन योजना के जरिए पीएम मोदी का मकसद सिर्फ इतना था कि हर किसी को वितीय व्यवस्था के दायर में लाया जा सके मगर नोटबंदी के बाद जनधन खातों में गड़बड़ी की देखने को मिल रही है।

वीडियो: RBI का नया नियम, जनधन खातों से महीने भर में अब सिर्फ निकलेंगे 10 हज़ार रुपए

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.