December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

यूपी रोडवेज: सरकारी आदेश को ठेंगा दिखा, कर रहे नोट बदलने का गोरखधंधा

पहली बार ड्राइवर ने गाजियाबाद में एक महिला को बस रोक बंद हो चुके नोटों के बदले सौ और पांच सौ के नोटों की गड्डी थमाई।

Author नई दिल्ली | November 24, 2016 03:54 am
यूपी रोडवेज ।

बंद किए गए हजार और पांच सौ रुपए के नोट रोडवेज की बसों में चलाने का आदेश जारी किया गया था। आरोप है कि इस आदेश के बाद यूपी रोडवेज की बसों में काले नोटों को सफेद करने का काम भी किया जाने लगा। यह गोरखधंधा बस चालकों और सहचालकों की मिलीभगत से चल रहा है। यात्रियों का कहना है कि बस में टिकट काटने वाले उनसे हजार, पांच सौ के नोट लेने से इनकार कर रहे हैं। जबकि यात्रियों से मिले दो हजार, पांच सौ और सौ के नोट इकट्ठा कर रहे हैं।

नाम प्रकाशित न करने की शर्त पर एक यात्री ने बताया कि वे यूपी रोडवेज की बस संख्या यूपी 14 डीटी 4493 से सहिबाबाद जा रहे थे। इस बस में ड्राइवर और कंडक्टर ने दो बार बंद हो चुके नोटों की बदली की। उन्होंने यह भी दावा किया कि काले पैसे को सफेद करने के धंधे में अधिकांश बस चालक मिले हुए हैं। उन्होंने पुख्ता तौर पर यह बताया कि पहली बार ड्राइवर ने गाजियाबाद में एक महिला को बस रोक बंद हो चुके नोटों के बदले सौ और पांच सौ के नोटों की गड्डी थमाई। दूसरी बार बस में चढ़े व्यक्ति से भी गाजियाबाद में ही नोटों की अदला-बदली की। इस यात्री का आरोप है बस ड्राइवर व कंडक्टर कमीशन के आधार पर काले-सफेद के धंधे में लगे हैं।

वहीं आइएसबीटी आनंद विहार से हरदोई जाने वाले यात्री मुकेश यादव ने बताया कि बस वाले पुराने नोट लेने से मना कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि कंडक्टरों ने उनसे कमीशन के आधार पर नोट बदलने की पेशकश भी की। वहीं कानपुर से दिल्ली आए और दोबारा कानपुर लौट रहे अभिषेक लांगर ने बताया कि वे एक कुरियर कंपनी में काम करते हैं और यात्रा के दौरान उन्होंने पांच सौ का नोट दिया तो बसवाले ने लेने से इनकार कर दिया। इधर आनंद विहार बस स्टैंड पर इलाबाद जाने के लिए बस का इंतजार कर रहे यात्री प्रभाष चौबे ने बताया कि हरियाणा की तरफ ऐसा नहीं है। लेकिन यूपी की तरफ जाने वाले वाली गाड़ियों में पांच सौ के बदले चार सौ और हजार पर 800 के नोट बदलने का धंध चल रहा है।

 

ममता बनर्जी ने जंतर-मंतर पर की रैली; बोलीं- ‘इस बार कोई भी बीजेपी का समर्थन नहीं करेगा’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 24, 2016 3:53 am

सबरंग