ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश: पीएम मोदी पर आजम खान के विवादित बयान पर विधानसभा में हंगामा

देश यह जानना चाहता है कि जब हमारे बादशाह पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को जन्मदिन की मुबारकबाद दे रहे थे, उस वक्त उनके साथ कमरे में और कौन मौजूद था।
Author लखनऊ | August 31, 2016 02:40 am
कैबिनेट मिनिस्टर आजम खान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में संसदीय कार्य मंत्री आजम खां के आपत्तिजनक बयान को विधानसभा की कार्यवाही से बाहर करने की मांग को लेकर भाजपा सदस्यों ने मंगलवार को हंगामा किया। इससे निचले सदन की कार्यवाही कुछ देर के लिए स्थगित करनी पड़ी। प्रश्नकाल में सदन में प्रदेश की कानून-व्यवस्था पर चर्चा के दौरान खां ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए उनकी आलोचना में कुछ टिप्पणी की। इस पर भाजपा के सदस्यों ने कड़ी आपत्ति जताई और सदन के बीचोंबीच आकर खां के ‘अपमानजनक शब्दों’ को सदन की कार्यवाही से हटाने की मांग की। खां ने जवाब देते हुए कहा कि देश यह जानना चाहता है कि जब हमारे बादशाह पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को जन्मदिन की मुबारकबाद दे रहे थे, उस वक्त उनके साथ कमरे में और कौन मौजूद था।

विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय ने भाजपा सदस्यों को आश्वासन दिया कि वह इस मामले पर गौर करेंगे, मगर इसके बावजूद वे अपने-अपने स्थान पर नहीं गए। इस पर उन्होंने सदन की कार्यवाही 20 मिनट के लिए 12 बजकर 20 मिनट तक स्थगित कर दी। इसके पूर्व, भाजपा सदस्य सुरेश कुमार खन्ना ने सरकार से गत 29 जुलाई को बुलंदशहर में मां-बेटी के साथ हुए सामूहिक बलात्कार प्रकरण में ‘1090 महिला हेल्पलाइन’ की कार्रवाई के बारे में जानना चाहा। उन्होंने कहा कि अगर हेल्पलाइन से समुचित मदद मिली होती तो उस वारदात को होने से रोका जा सकता था। खन्ना ने राज्य में पुलिस पर हमलों का जिक्र करते हुए कहा कि पूर्व में जब किसी पुलिसकर्मी पर हमला होता था तो अभियुक्त का घर तक खोद दिया जाता था।संसदीय कार्य मंत्री आजम खां ने खन्ना के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि राज्य की सपा सरकार कानून के दायरे में रहकर काम करती है। खां के बयान से असंतुष्ट खन्ना ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को खां के खिलाफ टिप्पणी की है और अगर उनमें जरा सी भी नैतिकता बची है तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए। खन्ना यह कहते हुए अपने साथी भाजपा सदस्यों के साथ सदन से बाहर चले गए।

खां ने कहा कि यह सही है कि सुप्रीम कोर्ट ने उनके खिलाफ जरूर टिप्पणी की है और वह उस पर न्यायालय में जवाब देंगे। उन्होंने कहा, ‘अदालत ने उसे उपलब्ध कराए गए तथ्यों के आधार पर टिप्पणी की है। मैं उसे अपना जवाब दूंगा। जहां तक बलात्कार पीड़ितों पर मेरे रुख का सवाल है तो ऐसे मामलों में इस्लामी कानूनों के मुताबिक फैसला होना चाहिए और दोषी लोगों को संगसार (पत्थर मार-मार कर हत्या) कर देनी चाहिए। खां ने कहा, ‘एक मंत्री के रूप में जब मैं कहता हूं कि एक ही जैसी लगातार चार-पांच घटनाओं की सच्चाई सामने आनी चाहिए, तो एक पार्टी को इतनी फिक्र क्यों हो जाती है। मामले (बुलंदशहर बलात्कार कांड) की सीबीआइ जांच जारी है। सरकार भी ऐसी घटनाओं को लेकर फिक्रमंद है।’

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग