ताज़ा खबर
 

इस बार सपा के सिर बंधेगा जीत का सेहरा!

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव घोषित हो चुके हैं और चुनावी हलचल अपने रंग में आने लगी है।
Author ग्रेटर नोएडा | January 11, 2017 02:46 am
राम गोपाल यादव, मुलायम सिंह यादव व अखिलेश यादव। (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव घोषित हो चुके हैं और चुनावी हलचल अपने रंग में आने लगी है। लेकिन सपा के चुनानी इतिहास पर निगाह डाली जाए तो दादरी, जेवर और नोएडा जिले में सपा का खाता अब तक नहीं खुल सका है। सपा को हर चुनाव में तीसरे व चौथे स्थान पर ही संतोष करना पड़ा है और जीत का सेहरा भाजपा, काग्रेस व बसपा के सिर ही बंधता रहा है। लेकिन इस बार देखना है कि अखिलेश की मेट्रो पर सवार विकास सपा को कितना फायदा पहुंचाता है।  साल 2012 से पहले जिला गौतमबुद्धनगर में विधानसभा की दो सीट थी, दादरी और जेवर। नए परिसीमन के बाद नोएडा विधानसभा सीट बनाई गई। साल 2012 में विधानसभा चुनाव में नोएडा सीट से भाजपा के उम्मीदवार डॉक्टर महेश शर्मा ने जीत दर्ज की थी। चुनाव में सपा प्रत्याशी सुनील चौधरी ने डॉक्टर महेश शर्मा को टक्कर दी थी। सुनील को 42044 वोट मिले थे। लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज करने के बाद डॉक्टर महेश शर्मा ने विधानसभा सीट से इस्तीफा दे दिया था। 2014 में हुए उपचुनाव में सीट पर बिमला बाथम ने जीत दर्ज की थी। पिछले विधानसभा चुनाव में दादरी से बसपा उम्मीदवार सतवीर गुर्जर ने जीत दर्ज की थी। सपा के उम्मीदवार राजकुमार भाटी चौथे नंबर पर थे। उन्हें 23191 वोट मिले थे।

जेवर सीट से बसपा के वेद राम भाटी ने जीत दर्ज की थी। सपा उम्मीदवार बिजेंद्र भाटी तीसरे नंबर पर थे। उन्हें 35166 वोट मिले थे। चुनाव में सपा का खाता न खुलने का प्रमुख कारण लोग सपा द्वारा जिला तोड़ना मानते हैं। बसपा ने छह मई 1997 को नोएडा को जिला बना दिया था। 13 जनवरी 2004 में सपा ने जिला खत्म कर दिया था। जिले में इसका भारी विरोध हुआ था। बाद में न्यायालय ने जिला बहाल कर दिया था। सपा के निर्णय का गुस्सा आज भी लोगों के मन में है। साल 2003 में बसपा ने जेवर में एयरपोर्ट बनाने की घोषणा की थी। निर्णय से जिले के साथ ही आस-पास के लोगों को भी काफी फायदा होता। सपा सरकार आई तो इस निर्णय पर आगे कोई काम नहीं हुआ। बीते विधानसभा चुनाव में प्रदेश में सपा की लहर थी। पार्र्टी ने अपने दम पर पूर्ण बहुमत हासिल किया था। लहर के बाद भी सपा के उम्मीदवार जीत के आस-पास भी नहीं पहुंच पाए थी। सरकार बनने के बाद सपा ने जिले में विकास कार्य कराए हैं। आम से लेकर खास वर्ग के लोगों को सबसे बड़ी देन मेट्रो की मिली। जेवर व ग्रेटर नोएडा वेस्ट तक भी मेट्रो को मंजूरी मिली।

 

समाजवादी पार्टी विवाद: अखिलेश यादव बन सकते हैं पार्टी अध्यक्ष, शिवपाल यादव और अमर सिंह दे सकते हैं इस्तीफा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.