ताज़ा खबर
 

उप्र विधानसभा चुनाव: सपा में उम्मीदवारों पर माथापच्ची जारी, बदले गए सात सीटों के प्रत्याशी

इनमें से दो सीटें ऐसी हैं, जिनके उम्मीदवार बीते शनिवार 10 दिसंबर को ही तय किये गये थे लेकिन अब बदल दिये गये हैं।
Author लखनऊ | December 12, 2016 15:55 pm
समाजवादी पार्टी के नेता शिवपाल यादव। (फाइल फोटो)

समाजवादी पार्टी में उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के प्रत्याशियों को बदलने का सिलसिला जारी है। पार्टी ने सोमवार (12 दिसंबर) को सात सीटों पर उम्मीदवार बदल दिये। इनमें से दो सीटें ऐसी हैं, जिनके उम्मीदवार बीते शनिवार 10 दिसंबर को ही तय किये गये थे लेकिन अब बदल दिये गये हैं। सपा की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने सात प्रत्याशियों की जगह नये प्रत्याशियों के नामों की सूची जारी कर दी। विज्ञप्ति में कहा गया कि जगदीशपुर से अजीत प्रसाद की जगह विमलेश सरोज को उम्मीदवार बनाया गया है जबकि बिलग्राम मल्लावां से सुभाष पाल की जगह अनीस मंसूरी को प्रत्याशी नामित किया गया है। इसमें बताया गया कि अमापुर सीट पर वीरेन्द्र सोलंकी की जगह राहुल पाण्डेय को सपा प्रत्याशी बनाया गया है जबकि तिलोई विधानसभा क्षेत्र से मयंकेश्वर शरण की जगह जैनुल हसन को उम्मीदवार बनाया गया।

माधवगढ़ से लाखन सिंह कुशवाहा के स्थान पर आर पी निरंजन, कालपी से विष्णुपाल सिंह उर्फ नन्नू की जगह राजा अनूप कुमार सिंह और खागा से ओमप्रकाश गिहार के स्थान पर विनोद पासी को उम्मीदवार बनाया गया है। उल्लेखनीय है कि गत शनिवार को भी शिवपाल ने संवाददाता सम्मेलन कर 23 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया था। अमापुर और खागा ऐसी दो सीटें हैं, जहां से 10 दिसंबर को क्रमश: वीरेन्द्र सोलंकी और ओम प्रकाश गिहार को उम्मीदवार बनाया गया था लेकिन दो ही दिन में दोनों सीटों के प्रत्याशी बदल दिये गये। शनिवार को जारी सूची में एक ओर सपा सरकार के काबीना मंत्री आजम खां के बेटे का नाम प्रत्याशी के रूप में था तो दूसरी ओर माफिया से नेता बने मुख्तार अंसारी के भाई का नाम भी था।

शिवपाल ने सूची का ऐलान करते हुए यहां संवाददाताओं को बताया था कि सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव से सलाह मशविरे के बाद 23 प्रत्याशियों के नामों को अंतिम रूप दिया गया है। उन्होंने कहा कि सपा ने स्वार विधानसभा सीट से आजम खां के बेटे अब्दुल्ला आजम को प्रत्याशी बनाया है। सात सीटों के प्रत्याशी बदल दिये गये हैं, जिनमें कानपुर कैण्ट से हाजी परवेज के स्थान पर सांसद रह चुके अतीक अहमद को उम्मीदवार घोषित किया गया है। मोहम्मदाबाद सीट से मुख्तार के भाई सिबगततुल्ला अंसारी को टिकट दिया गया है तो बसपा विधायक राजू पाल की हत्या के वांछित अतीक अहमद को भी कानपुर कैण्ट से टिकट मिला है। उल्लेखनीय है कि मुख्तार और अफजाल अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल का हाल ही में सपा में दोबारा विलय हुआ है। पूर्व में भी विलय किया गया था लेकिन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के विरोध के कारण इसे रद्द कर दिया गया था। सपा ने बसपा सुप्रीमो मायावती के नजदीकी नसीमुद्दीन सिद्दीकी के भाई हसनुद्दीन सिद्दीकी को बांदा से उम्मीदवार बनाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.