ताज़ा खबर
 

आठ तस्वीरों में देखिए कैसे योगी आदित्य नाथ के बगल में बैठने के लिए केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा के बीच हुई खींचतान

यूपी के सीएम और दोनों डिप्टी सीएम भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) द्वारा गुरुवार को आयोजित "खेलो भारत" कार्यक्रम में शामिल थे।
कार्यक्रम की तस्वीरों में जाहिर हो गई यूपी के दोनों डीप्टी सीएम के बीच कुर्सी को लेकर हुई होड़। (तस्वीर- संदीप रस्तोगी का फेसबुक)

कई बार कुर्सी की लड़ाई सत्ता में आने के बाद भी खत्म नहीं होती, हाल ही में इसके जीवंत उदाहरण बने भारतीय जनता पार्टी के दो नेता। दोनों ही नेताओं को देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में उप-मुख्यमंत्री की गद्दी मिली हुई है। ये नेता हैं केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा। गुरुवार ( छह जुलाई) को आयोजित कार्यक्रम में दोनों के बीच इस बात की होड़ लग गई कि राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बाजू में कौन बैठेगा। दोनों ही नेताओं को काफी देर तक यह होश नहीं रहा कि वो एक सार्वजनिक कार्यक्रम में हैं जहां दर्जनों मीडिया वाले कैमरे के साथ मौजूद हैं। नवभारत टाइम्स के फोटो पत्रकार संदीप रस्तोगी ने कार्यक्रम की कई तस्वीरें एक साथ अपने फेसबुक पर शेयर कीं जिनमें दोनों नेताओं के बीच बच्चों की तरह कुर्सी पर कब्जे का मुकाबला दिखता है।

यूपी के सीएम और दोनों डिप्टी सीएम भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) द्वारा गुरुवार को आयोजित “खेलो भारत” कार्यक्रम  में शामिल थे। लखनऊ स्थित कन्वेंशन सेंटर में आयोजित कार्यक्रम के लिए मंच पर चार कुर्सियां रखीं थी। तीन सीएम और डिप्टी सीएम के लिए और एक भाजयुमो की राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद पूनम महाजन के लिए। रस्तोगी के अनुसार तीनों प्रमुख नेताओं में कार्यक्रम में  सबसे पहले दिनेश शर्मा पहुंचे। पहले आओ पहले पाओ के तहत शर्मा ने सीएम योगी आदित्य नाथ की कुर्सी के बगल में अपनी तशरीफ टिका दी। इतना ही नहीं शर्मा ने मौर्या को बगल वाली कुर्सी का रास्ता भी दिखा दिया।

मरता क्या न करता की तर्ज पर मौर्य चुपचाप बैठ गए। कार्यक्रम के दौरान जब शर्मा बोलने के लिए अपनी कुर्सी से उठे तो मौर्या ने न केवल कुर्सी बल्कि उसके सामने लगी नाम की तख्ती भी बदल दी। जब शर्मा बोलकर लौटे तो मंच पर पलटा हुआ पासा देखकर चुपचाप खाली कुर्सी पर बैठ गए। लेकिन कुछ ही देर बाद मौर्या के बोलने की बारी आई तो शर्मा ने भांप लिया कि अब कुर्सी बदलने का मौका उनका है। शर्मा ने मौका लपकते हुए तुरंत हरकत की लेकिन मीडिया के कैमरों की चमक या किसी की दी हुई भनक से उन्हें अहसास हुआ कि नाम की तख्ती भी बदली जा चुकी है और उन दोनों की कुर्सी की होड़ मीडिया की नजर में आ चुकी है।

पुराने संघी शर्मा ने संयम और अनुशासन के संस्कारों का प्रदर्शन करते हुए चुपचाप पुरानी कुर्सी पर वापसी कर ली लेकिन तब तक तीर कमान ने निकल चुका था। तमाम मीडिया वाले सत्ताधारियों की कुर्सी के लिए की गई इस मनोरंजक कसरत को अपने-अपने कैमरों में सदा के लिए कैद कर चुके थे। रही सही कमी “डिजिटल इंडिया” ने पूरी कर दी। पत्रकार द्वारा शेयर की गई तस्वीरें देखते ही देखते लोगों द्वारा शेयर की जाने लगीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग