ताज़ा खबर
 

टैक्सी ड्राइवर ने 10 रुपए ज्यादा किराया मांगा, गुस्साए पैसेंजर्स ने पीट-पीटकर उतारा मौत के घाट

हत्या का यह मामला बांदा के बदौसा थाने के गर्गपुर गांव का है। शनिवार को टैक्सी ड्राइवर तीन लोगों को लेकर गया। तीनों को छोड़ने के बाद उसने 50 रुपए किराया मांगा था। जिसके बाद सवारियों ने 40 रुपए देने की बात कही।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

उत्तर प्रदेश के बांदा में एक टैक्सी द्वारा 10 रुपए अधिक किराया मांगने पर पैसेंजरों ने उसकी हत्या कर दी। हत्या के इस वारदात में तीन लोग शामिल थे। घटना के तीनों मौका-ए-वारदात से फरार हो गए। लेकिन पुलिस में उनमें से दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। एक आरोपी अभी भी फरार है। पुलिस ने इस मामले में 3 लड़कों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है। वहीं, मृतक टैक्सी ड्राइवर के परिजनों ने उसके शव को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रखकर जमकर हंगामा किया।

हत्या का यह मामला बांदा के बदौसा थाने के गर्गपुर गांव का है। शनिवार को टैक्सी ड्राइवर तीन लोगों को लेकर गया। तीनों को छोड़ने के बाद उसने 50 रुपए किराया मांगा था। जिसके बाद सवारियों ने 40 रुपए देने की बात कही। पैसों को लेकर दोनों पक्षों के बीच विवाद हो गया। जिसके बाद तीनों लड़कों ने टैक्सी ड्राइवर की पीट-पीटकर हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि तीनों आरोपियों ने उसे टैक्सी ड्राइवर को इतना पीटा की उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस का कहना है कि वह इस मामले में जांच जारी है।

इससे पहले अप्रैल महीने में इसी तरह का एक मामला सामने आ चुका है। दिल्ली के एक कैब चालक की हत्या के आरोप में नाबालिगों को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने बताया था कि ‘दो नाबालिगों ने पश्चिमी दिल्ली से नजफगढ़ के लिए टैक्सी किराए पर ली। रास्ते में कुलदीप के साथ उनकी बहस हो गई। इसके बाद उन्होंने उसकी गोली मारकर हत्या कर दी।’ अधिकारी ने कहा, ‘नाबालिगों ने पास के सुनसान इलाके में चालक का शव फेंक दिया और भागने से पहले कार को अन्य स्थान पर छोड़ दिया।’ पुलिस को नाबालिगों के कोई पिछले आपराधिक रिकॉर्ड नहीं मिले।’

वीडियमुंबई में RTI कार्यकर्ता और बेंगलुरू में RSS कार्यकर्ता की हत्या; देश में दहशत का माहौल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग