December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

शिवपाल का छलका दर्द, कहा- कुछ लोगों को बैठे-बिठाए मिल जाती है विरासत

उत्तर प्रदेश में 2017 में विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में सभी राजनीतिक दलों ने अपनी तैयारियां करनी शुरू कर दिया। इन सब के बीच समाजवादी पार्टी के भीतर चल रही खींचतान खत्म होने का नाम नहीं ले रही है।

शिवपाल यादव ने कहा है कि उन्हें मुख्यमंत्री पद का कोई लोभ नहीं है और वे इस पद के लिए अखिलेश का पूर्ण रूप से समर्थन करते हैं। (File Photo)

उत्तर प्रदेश में 2017 में विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में सभी राजनीतिक दलों ने अपनी तैयारियां करनी शुरू कर दिया। इन सब के बीच समाजवादी पार्टी के भीतर चल रही खींचतान खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। एक कार्यक्रम के दौरान समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव का दर्द एक बार फिर छलक उठा। शिवपाल ने बिना अखिलेश यादव का नाम लिए हुए कहा कि कुछ लोगों को सब कुछ विरासत में मिलता है और कुछ को भाग्य से मिल जाता है। लेकिन कुछ लोगों को जिनकी पूरी जिंदगी मेहनत करते-करते बीत जाती है, उन्हें कुछ नहीं मिलता फिर भी वे समाज की सेवा करते हैं। शिवपाल के इस बयान के बाद फिर से समाजवादी परिवार में मची कलह सामने आने लगी है।

वीडियो: समाजवादी पार्टी में चल रही खींचतान का अंजाम क्या होगा?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इटावा में एक समारोह में पहुंचे शिवपाल सिंह यादव ने सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव की तारीफ की। उन्होंने कहा कि मेरी राजनीति की शुरुआत नेता जी के साथ हो गई थी। हमने राजनीति के सफर में बहुत उतार-चढ़ाव देखे हैं। आज जो कुछ भी हूं नेताजी की वजह से ही हूं। सीएम उम्मीदवार के नाम को लेकर जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हमारे परिवार में कोई विवाद नहीं है। अगर सपा बहुमत में आती है तो अखिलेश यादव का नाम ही मुख्यमंत्री के तौर पर पेश किया जाएगा। इससे पहले पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश को सपा के मुख्यमंत्री पद का दावेदार बनाये रखने की सम्भावना सम्बन्धी एक सवाल पर कहा था, ‘मुख्यमंत्री को विधायक दल के लोग चुनेंगे, संसदीय बोर्ड चुनेगा। यह हमारा काम है। यह आपका (मीडिया) काम नहीं है।’

READ ALSO: बेटी पैदा होने से नाराज शौहर ने विदेश से फोन कर पत्नी को दिया तलाक!

गौरतलब है कि इससे पहले समाजवादी पार्टी में अंदरुनी कलह सामने आई थी। सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने मामले का निपटारा करते हुए अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह के बीच सुलह करवाई थी और कहा था कि पार्टी में कोई मतभेद नहीं है। बीते दिनों सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने सीएम अखिलेश को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया था और उनकी जगह पर भाई शिवपाल सिंह यादव को यूपी ईकाई का प्रदेश अध्यक्ष बनाया था। इसके कुछ देर बाद ही अखिलेश ने चाचा शिवपाल सिंह से अहम मंत्रालयों की जिम्मेदारी वापस ले ली थी। हाल ही पूरे विवाद को खत्म करते हुए शिवपाल सिंह को उनके मंत्रालय वापस कर दिए गए थे।

READ ALSO: VIDEO: दीवार के पीछे किस करते पकड़ा गया कपल, लड़कियों ने महिला पर कर दिया हमला

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 16, 2016 4:49 pm

सबरंग