January 17, 2017

ताज़ा खबर

 

कौमी एकता दल के गढ़ में रैली करेंगे मुलायम

मुलायम सिंह यादव आगामी नवंबर में कौएद के गढ़ कहे जाने वाले गाजीपुर के मुहम्मदाबाद में एक रैली को संबोधित करेंगे।

Author लखनऊ | October 9, 2016 05:45 am
समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रमुख मुलायम सिंह यादव। (फाइल फोटो)

(कौएद) के समाजवादी पार्टी (सपा) में विलय की बहाली के हाल में हुए एलान के बाद सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव आगामी नवंबर में कौएद के गढ़ कहे जाने वाले गाजीपुर के मुहम्मदाबाद में एक रैली को संबोधित करेंगे। कौएद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अफजाल अंसारी ने यहां बताया कि सपा प्रमुख से शनिवार की मुलाकात के बाद यह तय किया गया कि मुलायम आगामी नवंबर में गाजीपुर के मुहम्मदाबाद में एक विशाल रैली को संबोधित करेंगे। रैली की तारीख का फैसला दिवाली के बाद किया जाएगा।मौजूदा वक्त में मुहम्मदाबाद से सिबगतउल्ला अंसारी कौएद के विधायक हैं। यह पूछे जाने पर कि आगामी विधानसभा चुनाव में सपा उम्मीदवार के रूप में कौएद के कितने कार्यकर्ता मैदान में उतरेंगे, अफजाल ने कहा कि कौएद अब तो सपा का हिस्सा बन चुकी है। अब सपा का नेतृत्व ही सब कुछ तय करेगा। हम सपा के सिपाही की हैसियत से काम शुरू कर चुके हैं।

पूर्व सांसद ने कहा कि उनके विधायक भाई मुख्तार अंसारी मऊ से ही चुनाव लड़ेंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या मुख्तार सपा के टिकट पर ही लड़ेंगे, उन्होंने कहा कि कौएद का सपा में विलय हो चुका है, तो इस सवाल का कोई अर्थ नहीं रह जाता। मालूम हो कि सपा के प्रांतीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने पिछले गुरुवार को लखनऊ में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव कौएद के सपा में विलय को बहाल कर चुके हैं, लिहाजा यह विलय फिर से वजूद में आ चुका है। शिवपाल की पहल पर कौएद का पिछले जून महीने में सपा में विलय किया गया था, मगर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कड़े विरोध के बाद पार्टी संसदीय बोर्ड ने इस विलय को रद्द कर दिया था। हालांकि पिछले 15 अगस्त को सपा मुखिया ने कहा था कि वह कौएद के सपा में विलय को मान्यता देते हैं। कौएद खासकर पूर्वांचल में राजनीतिक असर रखने वाला दल माना जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 9, 2016 5:45 am

सबरंग