ताज़ा खबर
 

मैं मुख्यमंत्री होता तो ऐसा नहीं आता जनादेश : मुलायम सिंह यादव

समाजवादी पार्टी को इन हालातों में पहुंचाने के लिए जिम्मेदार लोगों की यहां चर्चा नहीं की जाएगी। उसको आगे फिर कभी देखा जाएगा।
Author श्रीनगर | May 8, 2017 01:49 am
समाजवजादी पार्टी के यादव परिवार में एक बार फिर विवाद की स्थिति बन रही है। एक बार फिर अखिलेश और मुलायम आमने सामने आ खड़े दिखाई दे रहे हैं।

कुनबे में वर्चस्व की लड़ाई से जूझ रहे समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में हुई करारी हार को लेकर अपना दर्द जाहिर करते हुए कहा कि जनता ने सपा को कर दिया साफ। उन्होंने कहा कि अगर मैं अखिलेश की जगह खुद उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री होता तो समाजवादी पार्टी को न तो यह दिन देखने होते और न ही इतनी बुरी हार का मुंह देखना पड़ता। समाजवादी पार्टी को इन हालातों में पहुंचाने के लिए जिम्मेदार लोगों की यहां चर्चा नहीं की जाएगी। उसको आगे फिर कभी देखा जाएगा। सपा संरक्षकरविवार दोपहर मैनपुरी जिले के गुनहिया गांव मे शहीद धर्मेंद्र यादव की मूर्ति का अनावरण करने के बाद सार्वजनिक सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने पहली दफा मुख्यमंत्री पद पर बोलते हुए कहा कि बेटे अखिलेश को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाना बड़ी भूल थी। अगर हम खुद 2012 में उत्तर प्रदेश के सीएम बने होते तो पार्टी को न तो आज यह दिन देखने होते और न ही इतनी बुरी पराजय का सामना समाजवादी पार्टी को करना पड़ता। मुलायम ने अपने अनुज शिवपाल के सेक्युलर मोर्चे की हवा निकालते हुए कहा कि सब लोग मिलकर समाजवादी पार्टी को मजबूत करें। आने वाले दिनों में सपा की कमान युवाओं के हाथों में बाकी पेज 8 पर होगी। मुलायम ने कहा कि मैंने शिवपाल को समझाया है, आज फिर बात होगी। शिवपाल ने पार्टी के लिए बहुत मेहनत की है। शिवपाल को चुनाव में हराने के लिए साढ़े सात करोड़ रुपए खर्च किए गए लेकिन फिर भी शिवपाल 52 हजार वोटों से जीत गए। इतना बड़ा आरोप लगाने बाकी पेज 8 पर के बाद भी मुलायम इतनी बड़ी रकम खर्च करने वाले का नाम सार्वजनिक नहीं किया। मुलायम ने शिवपाल के रामगोपाल को शकुनी बताने वाले बयान को सही बताते हुए कहा कि शिवपाल को हराने में कोई कसर नहीं छोड़ी गई, पैसा भी खर्च किया गया।

सपा सरंक्षक मुलायम ने कहा कि समाजवादी पार्टी जनता की गलती से नहीं खुद अपनी गलती से हारी है। उन्होंने बताया कि उनके मना करने के बावजूद पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कांग्रेस से गठबंधन किया था। हमारी जिंदगी बरबाद करने में कांग्रेस ने कोई कसर नहीं छोड़ी। कांग्रेस ने उन पर कई मामले दर्ज कराए और अखिलेश ने उसी कांग्रेस से गठबंधन किया। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी को कांग्रेस से तालमेल के बाद भी मात्र 47 सीटे मिली हैं। इसमें मैंने तीन जगहों पर प्रचार किया तो 14 सीटें मिलीं वरना 47 सीटें भी नहीं मिलती, बताओ पहले हमारे 224 विधायक थे लेकिन आज पार्टी की दुर्दशा पर दुर्दशा होती चली जा रही है।  उन्होंने कहा कि मुसलमान कांग्रेस को किसी भी सूरत मे वोट नहीं देगा क्योंकि कांग्रेस राज में ही मस्जिद तोड़ी गई थी। उन्होंने मस्जिद को टूटने से बचाने के लिए गोली चलाने का आदेश दिया। इसमें 16 व्यक्तियों की जानें चली गर्इं। इसका उन्हें अफसोस है लेकिन यदि वे ऐसा नहीं करते तो देश की एकता बिखर जाती। मुलायम ने कहा कि मस्जिद टूटने के दौरान अटल और आडवाणी ने मरने वालों की संख्या 56 बताई। लेकिन उनके मांगने के बाद भी इस संख्या की सूची नहीं दी गई। इसमें 16 लोग ही मरे थे और 84 लोग घायल हुए थे। मुसलमान सपा के साथ हैं लेकिन अखिलेश ने कांग्रेस से गठबंधन किया तो पूरे प्रदेश ने विरोध कर दिया।

मुलायम ने अखिलेश की तारीफ की। उन्होंने कहा कि अखिलेश सरकार ने बहुत काम किया। विकास में अखिलेश ने कोई कसर नहीं छोड़ी। संसदीय चुनाव के दरम्यमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रचार के दौरान कहा था कि जो बाप का नहीं हुआ, किसी का क्या होगा। इस भाषण का अखिलेश को खंडन करना था लेकिन अखिलेश ने खंडन नहीं किया, सपा की हार में इस भाषण का भी खासा असर हुआ है। उन्होंने कहा कि अखिलेश को कहना चाहिए था कि मैं तो अपने पिता से रोज सुबह आशीर्वाद लेता हूं। उन्होंने कहा कि मैं क्या इस खंडन कर देता। सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला कहा कि झूठे वादे कर जनता को ठगा गया। चुनाव से पहले जनता के खाते में 15-15 लाख रुपए भेजने का वादा करने वाले मोदी ने एक रुपया भी नहीं दिया। आज देश का किसान संकट में है। उन्होंने सपा सरकार में किसानों के कर्जे माफ किए। उनकी जमीनें नीलाम होने से बचार्इं। मुलायम ने कहा कि मोदी ने वादाखिलाफी की है। वादाखिलाफी भी एक तरह का भ्रष्टाचार है। झूठ बोलकर सत्ता हासिल करने वाले मोदी 15 लाख नहीं दे पा रहे तो जनता को तीन-तीन लाख रुपए ही दे दें।

मुलायम ने कहा देश की जनसंख्या बढ़ रही है। खेती घट रही है। आस्ट्रेलिया और अमेरिका में भी गेहूं का संकट है। किसान खुशहाल नहीं हुआ तो इस जनसंख्या का पेट कैसे भरेगा। उन्होंने आगरा से बांदा के बीच के जंगल को खत्म कर खेती लायक बनाने का सुझाव दिया और कहा कि सपा ने अपनी सरकार में किसानों के 1600 करोड़ के कर्जे माफ किए लेकिन मोदी सरकार जनता के हित में कोई काम नहीं कर रही। सपा सरकार ने पढ़ाई, सिंचाई मुफ्त की, निशुल्क उपचार की व्यवस्था कराई।ीं दी वहीं सुरक्षा अधिकारी इसे गंभीरता से ले रहे हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग