December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

मुलायम की पत्नी पर आरोप लगाने वाले एमएलसी उदयवीर सपा से निष्कासित

समाजवादी पार्टी में मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव के बीच पनपी रार थमने का नाम नहीं ले रही है।

Author लखनऊ | October 23, 2016 04:06 am
सपा के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव (बाएं), सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी में मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव के बीच पनपी रार थमने का नाम नहीं ले रही है। शनिवार को दोपहर बाद तक सपा के चार वरिष्ठ नेता इस रार को समाप्त करने के लिए मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव को समझाने की कोशिश करते रहे। इस बीच समाजवादी पार्टी ने अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष और उनकी पत्नी पर पत्र के माध्यम से आरोप लगाने वाले विधान परिषद सदस्य उदय वीर सिंह को छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया। वहीं बुलाई गई प्रदेश कार्यकारिणी में आर्थिक व राजनीतिक प्रस्ताव पास किए गए।

सरकार बनने के साढ़े चार सालों से पांच शक्तिपुंजों के सरकार पर हावी होने का लगातार आरोप झेलते आ रहे अखिलेश यादव शनिवार को भी सपा से निष्कासित किए गए युवा नेताओं की वापसी की अपनी मांग पर अघोषित तौर पर अड़े रहे। उन्होंने इन नेताओं से अपने सरकारी आवास पर भेंट भी की। सूत्रों का कहना है कि इस बीच मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे उन्हीं के कबीना मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति से सीएम की मुलाकात नहीं हो सकी। शनिवार की सुबह सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के पांच विक्रमादित्य मार्ग स्थित सरकारी आवास पर बैठकों का दौर शुरू हुआ। सूत्रों का कहना है कि विधान परिषद सदस्य उदय वीर सिंह के मुख्यमंत्री को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने और मुलायम सिंह यादव की पत्नी पर गंभीर आरोप लगाने से मुलायम बेहद खफा थे। उन्हें मनाने के लिए सपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरण मय नन्दा, बेनी प्रसाद वर्मा, कुंवर रेवती रमण सिंह और नरेश अग्रवाल मुलायम सिंह के आवास पर पहुंचे। जहां उदय वीर सिंह को सपा से निष्कासित करने का फैसला लिया गया।राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुलाकात के बाद चारों नेता मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को मनाने पहुंचे। दोनों नेताओं से मुलाकात के बाद बेनी प्रसाद वर्मा ने कहा कि समाजवादी पार्टी में सब ठीक है। न ही परिवार में किसी तररह की कोई रार है और न ही पार्टी में।

समाजवादी पार्टी में चल रही खींचतान का अंजाम क्या होगा?

उधर समाजवादी पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने राज्य कार्यकारिणी की बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में आर्थिक व राजनैतिक प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पारित किया गया। इसी कार्यकारिणी में यह तय हुआ कि मुलायम सिंह यादव के खिलाफ अशोभनीय, अमर्यादित और अपमानजनक टिप्पणी करने वाले फिरोजाबाद निवासी विधान परिषद सदस्य उदय वीर सिंह के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाए। इस प्रस्ताव के पास होने के बाद ही उदयवीर को पार्टी से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया गया।

इस बीच रविवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने समाजवादी पार्टी के सभी विधायकों और विधान परिषद सदस्यों की बैठक बुलार्ई है। उन्होंने इस बैठक को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की इन सभी के साथ सोमवार को होने वाली बैठक के एक दिन पूर्व किया है। रविवार को होने वाली समाजवादी पार्टी के विधायकों और विधान परिषद सदस्यों की इस बैठक में गौर करने वाली बात पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष की मौजूदगी का होना या न होना होगा। सपा के प्रदेश अध्यक्ष के साथ ही शिवपाल सिंह यादव सपा के विधायक भी हैं। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि वे मुख्यमंत्री की बैठक में शिरकत करते हैं अथवा नहीं?

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 23, 2016 4:06 am

सबरंग