ताज़ा खबर
 

बसपा महासचिव इंद्रजीत सरोज को मायावती ने दिखाया बाहर का रास्‍ता, बोले- पैसे दे पाने में नाकाम रहा इसलिए निकाला

बीएसपी नेता रहे इंद्रजीत सरोज ने आरोप लगाया कि उन्हें पार्टी से इसलिए निकाला गया क्योंकि वह बीएसपी सुप्रीमो (मायावती) को पैसे देने में नाकाम साबित हुए थे।
बसपा अध्यक्ष मायावती

सत्ता के सूखे से जूझ रही बहुजन समाज पार्टी और उसकी सुप्रीमो मायावती एक बार फिर चर्चा में आ सकती हैं। बीएसपी के नेता रहे और कभी मायावती के करीबी माने जाने वाले इंद्रजीत सरोज ने पार्टी सुप्रीमो मायावती पर गंभीर आरोप लगाए हैं। मायावती ने पार्टी के महासचिव इंद्रजीत सरोज को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में बुधवार को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। 2007 से 2012 तक रही बीएसपी की सरकार में इंद्रजीत सरोज मायावती की कैबिनेट में शामिल थे। पार्टी से निकाले जाने के बाद सरोज ने मायावती पर निशाना साधते हुए पैसे मांगने का आरोप लगाया है।

बीएसपी नेता रहे इंद्रजीत सरोज ने आरोप लगाया कि उन्हें पार्टी से इसलिए निकाला गया क्योंकि वह बीएसपी सुप्रीमो (मायावती) को पैसे देने में नाकाम साबित हुए थे। उन्होंने कहा कि मेरा पैसे देने में असमर्थ रहना मेरे निष्कासन का कारण है। टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक सरोज ने मायावती को पैसे की देवी बताते हुए कहा कि उनको पैसे लेने की बीमारी है। पैसे लेने के कारण ही पार्टी और मायावती दोनों बर्बाद हो जाएंगी। उनका आरोप है कि मायावती ने 9 से 22 लाख रुपए हर विधानसभा क्षेत्र से मांगे थे। उन्होंने कहा कि बीएसपी सुप्रीमो ने कहा था कि मुझे पैसे की जरुरत है। जो लोग चुनाव जीते हैं या हारे हैं सभी से 9 से 22 लाख रुपए तक चाहिए।

बता दें कि इससे पहले बीएसपी के कद्दावर मुस्लिम नेता और मायावती के अति करीबी माने जाने नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने मायावती पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। नसीमुद्दीन को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते पार्टी से बाहर निकाल दिया गया था। जिसके बाद उन्होंने पार्टी सुप्रीमो मायावती पर निशाना साधते हुए कहा था कि वह ऐसे आडियो टेप जारी करेंगे जिसमें मायावती उनसे पैसे की मांग कर रही है। उन्होंने ऐसे 150 से अधिक ऑडियो टेप होने का दावा किया और मीडिया को कुछ ऐसे टेप भी सुनाये जिसमें कथित तौर पर मायावती द्वारा उनसे पैसे मांगने की बात कही गई थी। नसीमुद्दीन ने आरोप लगाया था कि मायावती की गलत नीतियों की वजह से बसपा ने 2009 और 2014 के लोकसभा चुनावों में बहुत ही खराब प्रदर्शन किया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग