December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी, रेल दुर्घटना प्रधानमंत्री की पूंजीवादी सोच का परिणाम, जनता सबक सिखायेगी: मायावती

सरकार ने बुलेट ट्रेन चलाने का फैसला किया और उस पर अरबो-खरबों रुपये खर्च कर रहे हैं लेकिन रेल आधारभूत संरचना, पटरियों आदि के रखरखाव और मरम्मत पर ध्यान नहीं दिया।

Author नई दिल्ली | November 22, 2016 00:25 am
लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बसपा सुप्रीमो मायावती। (PTI Photo by Nand Kumar/14 Nov, 2016)

नोटबंदी और रविवार (20 नवबंर) की रेल दुर्घटना के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर करारा प्रहार करते हुए बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि वह इसके लिए प्रधानमंत्री मोदी की पूंजीवादी सोच और कार्यशैली को जिम्मेदार मानती है और जनता सब देख रही है तथा राज्य विधानसभा चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्हें सबक सिखायेगी। पुखरायां में रेल दुर्घटना को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए मायावती ने संसद भवन परिसर में कहा, ‘ये जो कुछ कल (रविवार, 20 नवंबर) हुआ है, वह केंद्र की वर्तमान सरकार द्वारा रेल पटरियों पर ध्यान नहीं देने की वजह से हुआ है। मैं इसके लिए रेल मंत्री को नहीं बल्कि प्रधानमंत्री मोदी की पूंजीवादी सोच और कार्यशैली को जिम्मेदार मानती हूं।’ उन्होंने कहा कि जब भाजपा के नेतृत्व में केंद्र में राजग सरकार बनी तब मैंने कहा था कि अब गरीब, मेहनतकश, मध्यमवर्ग की हालत बहुत खराब होने वाली है। बीच-बीच में मोदी सरकार ने जनहित के नाम पर कई फैसले लिये लेकिन जनहित की आड़ में अपने चहेते पूंजीपतियों और धन्नासेठों को फायदा पहुंचाया।

बसपा प्रमुख ने कहा कि केंद्र सरकार ने बुलेट ट्रेन चलाने का फैसला किया और उस पर अरबो-खरबों रुपये खर्च कर रहे हैं लेकिन रेल आधारभूत संरचना, पटरियों आदि के रखरखाव और मरम्मत पर ध्यान नहीं दिया। उन्होंने कहा कि यह बुलेट ट्रेन अहमदाबाद से मुम्बई तक चलायी जाएगी। अहमदाबाद गुजरात में है जबकि गुजरात के व्यापारी मुम्बई कारोबार करने जाते हैं। ऐसे में बुलेट ट्रेन केवल पूंजीपतियों को ध्यान में रख कर चलायी जा रही है। मायावती ने कहा कि बुलेट ट्रेन पर खर्च होने वाला अरबों-खरबों रुपया अगर रेल सुविधा और सुरक्षा पर खर्च होता तो ऐसे ट्रेन हादसे नहीं होते।  उन्होंने आरोप लगाया कि पूरे देश की जनता त्राहि त्राहि कर रही है और अगर आप प्रधानमंत्री का मिजाज देखें तो आपको स्पष्ट हो जायेगा कि जब गरीब, मेहनतकश, मध्यमवर्ग को पीड़ा होती है तब उन्हें खुशी होती है। जब पूंजीपतियों को खुशी मिलती है तब प्रधानमंत्री और खुश हो जाते हैं।

 

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 22, 2016 12:25 am

सबरंग