ताज़ा खबर
 

सियासी दावेदारी की जंग के बीच लखनऊ में दौड़ी मेट्रो

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव लगातार यह जताने की कोशिश में नजर आए कि मेट्रो उनकी सरकार की उपलब्धि है जिसका श्रेय भाजपा बिना कुछ किए लेने की कोशिश में है।
Author लखनऊ | September 6, 2017 01:27 am
लखनऊ में आज (5 सितंबर) से मेट्रो शुरू हो गई है। राजनाथ सिंह और योगी आदित्य नाथ ने इसको हरी झंडी दिखाई। दोनों ने मिलकर ही इसका उद्घाटन किया था।

मंगलवार को लखनऊ में धूमधाम से मेट्रो की शुरुआत हुई लेकिन इसके साथ ही समाजवादी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी में सियासी दावेदारी की जंग भी छिड़ गई। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव लगातार यह जताने की कोशिश में नजर आए कि मेट्रो उनकी सरकार की उपलब्धि है जिसका श्रेय भाजपा बिना कुछ किए लेने की कोशिश में है। इसी मंशा से समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने आजमबाग व शहर के कई अन्य इलाकों में मेट्रो का श्रेय अखिलेश यादव को देते हुए उनकी शान में पोस्टर चिपकाए जिसे बाद में पुलिस ने हटा दिया और कई कार्रकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। इन्हें बाद में छोड़ दिया गया।  उधर मेट्रो के उद्घाटन समारोह में गृहमंत्री राजनाथ सिंह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह बताने की कोशिश की कि किस तरह खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लखनऊ में मेट्रो की शुरुआत के लिए पहल की और केंद्र सरकार ने प्रदेश सरकार को इस काम के लिए हर तरह की मदद दी। दोनों ही नेता मंच से यह जताने से नहीं चूके कि बिना केंद्र सरकार के सहयोग के लखनऊ में मेट्रो का सपना साकार हो पाना नामुमकिन सा था।

इस बीच समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने आरोप लगाते हुए कहा कि योगी सरकार ने लखनऊ में मेट्रो रेल का दुबारा उद्घाटन कर बाकी
एक नई भ्रामक राजनीति की परंपरा की शुरुआत कर दी है। एक दिसंबर 2016 को समाजवादी सरकार के मुखिया अखिलेश यादव ने मेट्रो रेल का ट्रायल रन कराया था। आज जब आठ महीने की देरी से ट्रांसपोर्टनगर से चारबाग तक मेट्रो चली तो लोग यह देखकर हैरत में पड़ गए कि अखिलेश यादव के काम पर भाजपा नेता अपनी उपलब्धि का स्टिकर कैसे लगा रहे हैं। उन्होंने कहा, लोग नारा लगा रहे थे, काम किसी का, नाम किसी का, नहीं चलेगा, नहीं चलेगा।
उन्होंने कहा कि किसी को यह बताने की जरूरत नहीं है कि लखनऊ में मेट्रो रेल लाने की पहल किसने की है? तब मुख्यमंत्री अखिलेश ने मेट्रो मैन इंजीनियर श्रीधरन को आमंत्रित कर इस परियोजना का शिलान्यास किया था। इस ऐतिहासिक सच्चाई को झुठलाया नहीं जा सकता कि अखिलेश यादव को इसका श्रेय जाता है। यह भी एक रिकार्ड रहेगा कि उन्होंने इस परियोजना को दो वर्ष के समय में ही पूरा कर दिया था। चौधरी ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि यदि एनओसी व दूसरी मदद में पांच महीने का विलंब नहीं किया गया होता तो मेट्रो अब तक पटरियों पर दौड़ती होती। फिर भी आज जिस हालत में मेट्रो रेल दौड़ी है, इसका श्रेय अखिलेश यादव को ही जाता है। उन्होंने कहा कि इस मौके पर अखिलेश की अनुपस्थिति सभी को खल रही थी।

उधर भाजपा ने अखिलेश यादव पर तंज कसा। पार्टी के वरिष्ठ नेता और प्रदेश प्रवक्ता शलभमणि त्रिपाठी ने कहा कि आज के मेट्रो के उद्घाटन के बाद अब लोगों को मेट्रो तलाशनी नहीं पड़ेगी और यह नहीं पूछना पड़ेगा कि मेट्रो चल कहां रही है। अब हर कोई आराम से टिकट ले सकेगा, मेट्रो में सफर कर सकेगा। उन्होंने कहा, इसके लिए प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री बधाई के पात्र हैं। खुशी और उत्साह के मौके पर विपक्ष के कुछ साथी समारोह में शामिल होने की बजाए ओछी सियासत कर रहे हैं। लेकिन प्रदेश की जनता देख रही है कि किसने हवा में मेट्रो चलाई और किसने जमीन पर।

 

गुब्बारों, झंडों के साथ गर्मजोशी से स्वागत
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के विभिन्न शहरों में मेट्रो परियोजना के लिए अलग-अलग निगम बनाने के बजाय एक ‘यूपी मेट्रो कारपोरेशन’ के गठन का ऐलान करते हुए मेट्रोमैन ई. श्रीधरन से उसके प्रधान सलाहकार के रूप में जुड़ने की अपेक्षा की। कार्यक्रम के बाद राजनाथ, नाईक, योगी और पुरी ने हरी झंडी दिखाकर मेट्रो के पहले सफर की शुरुआत की। सभी लोग ट्रांसपोर्ट नगर से चारबाग तक मेट्रो में गए और वापस आए। रास्ते में जगह जगह लोग अपनी छतों के ऊपर झंडे और गुब्बारे लहराते दिखे। छतों पर खडेÞ लोगों ने हाथ हिलाकर मेट्रो में सफर कर रहे मुसाफिरों का अभिवादन किया।

मुख्यमंत्री ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल राम नाईक, केंद्रीय आवासन व शहरी कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी के साथ लखनऊ मेट्रो का उद्घाटन करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सहयोग को देखते हुए हम ‘यूपी मेट्रो कारपोरेशन’ का गठन करेंगे जो संबंधित शहरों में मेट्रो विकसित करेगा।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग