April 28, 2017

ताज़ा खबर

 

… और अब मोदी हुए बघेल पर मेहरबान

प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल एक वक्त सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव के सुरक्षा गार्ड रहे हैं। मुलायम ने उनकी क्षमता को देखते हुए 1998 में पहली बार ससंदीय चुनाव में उतारा था।

Author इटावा  | March 21, 2017 02:27 am
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (File Photo)

उत्तर प्रदेश मे योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में गठित प्रदेश सरकार में केबिनेट मंत्री की शपथ लेने वाले प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल एक वक्त सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव के सुरक्षा गार्ड रहे हैं। मुलायम ने उनकी क्षमता को देखते हुए 1998 में पहली बार ससंदीय चुनाव में उतारा था। उसके बाद से बघेल ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा। बाद में उनकी मुलायम से अनबन हो गई।  योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री बनने पर उनके पैतृक ग्राम उत्तर प्रदेश के औरैया जिले के भटपुरा में खुशी का माहौल है। गांववासियों ने उनके कैबिनेट मंत्री बनने पर जमकर आतिशबाजी चलाई और महिलाओं ने मंदिर में मंगल पर गीत गाए। सत्यपाल सिंह बघेल राजनीति में एसपी सिंह बघेल के नाम से लोकप्रिय हंै। उनकी इकलौती बहन श्रीमती पदमा ‘जनसत्ता’ को बताती है कि उनके पिता रामभरोसे सिंह मध्य प्रदेश पुलिस विभाग में तैनात थे। इसी वजह से हम सभी भाई बहनों की पैदाइश मध्य प्रदेश में ही हुई है। सत्यपाल सबसे छोटा है। उनकी पैदाइश मध्य प्रदेश के इंदौर स्थित यशवंतराव होल्कर अस्पताल में हुई। पिता रामभरोसे खरगौन से रिटायर हुए। इसलिए प्रारंभिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा सभी मध्यप्रदेश में ही हुई। उत्तर प्रदेश पुलिस सेवा में सब इंस्पेक्टर के तौर पर भर्ती होने के बाद सत्यपाल को पहली अहम जिम्मेदारी तत्कालीन मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी का सुरक्षागार्ड बनने की मिली।

1989 में मुलायम सिंह यादव के मुख्यमंत्री बनने के बाद बघेल मुलायम सिंह यादव के सुरक्षा चक्र में शामिल हो गए लेकिन अपनी निडरता, मेहनत और ईमानदारी के बल पर उन्होंने मुलायम सिंह यादव का भी दिल जीत लिया। मुलायम सिंह यादव ने उनको जलेसर सीट से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर 1998 में पहली बार उतारा और वह जीते। उसके बाद दो बार सांसद चुने गए। बहन पदमा खुश हैं कि भाई को उनकी मेहनत और ईमानदारी का फल मिला। उनके बहनोई पूर्व विधायक इंद्रपाल सिंह का कहना है कि बधेल शुरुआत से कुछ कर गुजरना चाहते थे इसलिए योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री जैसा अहम ओहदा उन्हें मिला।2010 में बसपा ने उन्हें राज्यसभा में भेजा। साथ ही राष्ट्रीय महासचिव की जिम्मेदारी भी दी। 2014 में फिरोजाबाद लोकसभा से सपा के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव के पुत्र अक्षय यादव के सामने चुनाव लड़े। हालांकि वह यह चुनाव हार गए। इसके बाद उन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा देकर भाजपा की सदस्यता ली। भाजपा ने उन्हें पिछड़ा वर्ग का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया और इस बार वह टूंडला सुरक्षित सीट से भाजपा विधायक बने। प्रोफेसर बघेल पिछड़ा वर्ग का चेहरा हैं और उनकी इस वर्ग पर पकड़ भी है।

जलेसर लोकसभा क्षेत्र से तीन बार सपा सांसद रहे प्रो बघेल 2009 के लोकसभा चुनाव के दौरान बसपा में शामिल हो गए थे। चुनाव में अखिलेश यादव और डिंपल यादव के खिलाफ दम दिखाने पर बसपा ने उन्हें राज्यसभा भेजा था। प्रो बघेल 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा में शामिल हुए। उस समय वह बसपा से राज्यसभा सदस्य थे और दो साल का उनका कार्यकाल शेष था। भाजपा और संघ के बडेÞ नेताओं से बघेल की नजदीकी बढ़ती गई। विधानसभा चुनाव आने पर आगरा और अलीगढ़ मंडल में बघेलों के साथ-साथ निषाद, लोधे और कुशवाह वोट बैंक को साधने के लिए भाजपा ने टूंडला सीट से बघेल को विधानसभा चुनाव लड़ाया।बघेल मुख्यत पिछड़ा वर्ग से आते हैं लेकिन बघेल की उपजाति गडरिया अनुसूचित जाति में शामिल है। पिछड़ा वर्ग का चेहरा होने के बाद भी अनुसूचित जाति के उनके प्रमाणपत्र ने चुनाव में तुरुप के पत्ते का काम किया। हालांकि उनके प्रमाणपत्र पर काफी हंगामा भी हुआ। शिकायतें भी हुईं लेकिन पत्रावलियां उनके पक्ष में थीं। लिहाजा बघेल सुरक्षित सीट पर चुनाव लडेÞ और जीत गए।  बघेल को भाजपा ने स्टार प्रचारक बनाया और जेड श्रेणी की सुरक्षा दी गई। चुनाव में बघेलों के गढ़ में चुनावी सभा कराने के लिए बघेल को पार्टी ने हेलिकॉप्टर भी मुहैया कराया। फिरोजाबाद जिले की पांच सीटों के साथ-साथ आगरा की सीटों और अलीगढ़ मंडल की सीटों पर भी बघेल के प्रभाव का पार्टी ने आंकलन किया । बघेल को पहले चरण में मंत्रिमंडल में स्थान देकर उन्हें मेहनत का तोहफा दिया गया है।

 

 

पांच महीने बाद खत्म हुई मणिपुर में आर्थिक नाकाबंदी, समझौते को राजी नागा संगठन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on March 21, 2017 2:27 am

  1. अशोक धनगर
    Mar 22, 2017 at 11:31 am
    एस पी सिंह की जाती धनगर है
    Reply

    सबरंग