ताज़ा खबर
 

दादरी हत्याकांड के आरोपी की मौत, गांववालों का दावा- जेल में हुई पिटाई

दादरी के अखलाक मर्डर केस में आरोपी रविन सिसोदिया (21) की मंगलवार को अस्पतात में मौत हो गी है। गांववालों का आरोप है कि रविन और उसके साथ तीन और आरोपियों की जेल की पिटाई की गई है।
Author दादरी | October 5, 2016 09:23 am
दादरी हत्याकांड के आरोपी की मौत से दुखी परिजन (ANI PHOTO)

दादरी के अखलाक मर्डर केस में आरोपी रविन सिसोदिया (21) की मंगलवार को अस्पतात में मौत हो गी है। गांववालों का आरोप है कि रविन और उसके साथ तीन और आरोपियों की जेल की पिटाई की गई है, जिसके बाद रविन को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उसकी मौत हो गई। गौरतलब है कि पिछले साल सिंतबर में दादरी में अखलाक की बीफ खाने के संदेह के आधार पर भीड़ ने पीट-पीटकर हत्‍या कर दी थी। इस मामले में गौतम बुद्ध नगर के डीएम एनपी सिंह ने कहा कि आरोपी की मौत की जानकारी हमें 6.30 से 7 बजे के करीब मिली। रविन की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट, मेडिकल हिस्ट्री और टेस्ट रिपोर्ट्स अभी एलएनजेपी अस्पताल से नहीं आई हैं, उनका इंतजार किया जा रहा है। जेल प्रशासन का कहना है कि रविन फेफड़े के इन्फेंक्शन से पीड़ित था लेकिन पूरी रिपोर्ट आने के बाद ही इस बारे में कुछ बताया जा सकेगा।

वीडियो: जनसत्ता न्यूज़ बुलेटिन

रविन के साथ जेल में बंद विनय के पिता ने बताया कि रविन को मंगलवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह 23 सितंबर से ठीक नहीं था। ये जानने के लिए हम 25 सितंबर को उससे, विनय, रुपेंद्र और भीम से मिलने के लिए जेल गए थे। रविन ने बताया था कि जेल प्रशासन के कुछ आधिकारियों से हाथापाई हुई थी, जिसके बाद से विनय और रविन ठीक नहीं थे। सूत्रों के मुताबिक हाल ही में नोएडा के जिला अस्पताल में रविन की जांच कराई गई थी, जिसके बाद मंगलवार को उसे एलएनजेपी में ट्रांसफर कर दिया गया था। एसएसपी धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि रविन की मौत के कारणों का पता बुधवार को चलेगा। प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक जेल प्रशासन ने फेफड़े के इंफेक्शन होने की बात कही। बिसरा गांव में भारी मात्रा में फोर्स तैनात कर दी गई है।

READ ALSO: सीजेआई ने बताईं 1965 के युद्ध की खौफनाक यादें- फौजी बूट पहने पैर खा रहे थे कुत्ते, कब्र खोदने तक का नहीं था वक्त, ऐसे ही दफना दी गई थी लाशें

वहीं, दूसरी ओर महिलाएं अखलाक के भाई जान मोहम्मद की गिरफ्तारी की मांग करते हुए आमरण अनशन पर बैठी हैं। मंगलवार को अनशन पर बैठी कई महिलाओं की तबियत बिगड़ गई। डॉक्टरों ने महिलाओं का चेकअप कर अनशन तोड़ देने की सलाह दी है। मालूम हो कि अदालत के आदेश पर रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद से मामले के आरोपियों के परिजन पुलिस पर अखलाक के भाई की गिरफ्तारी का दबाव बना रहे हैं। गौरतलब है कि पिछले साल सितंबर में अखलाक की बीफ खाने के संदेह के आधार पर भीड़ ने पीट-पीटकर हत्‍या कर दी थी। बेटे दानिश को भी बुरी तरह पीटा गया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग