May 26, 2017

ताज़ा खबर

 

प्रधानमंत्री का दशहरा मेले में आना राजनीति नहीं : भाजपा

रावण पहला आतंकी था। उसका विरोध करने के लिए आज तक उसका पुतला हम जलाते हैं। ये विचार भारत का है।

Author लखनऊ | October 11, 2016 04:11 am
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लखनऊ आकर दशहरा मेले में शामिल होने के पीछे कोई राजनीति या मंतव्य नहीं है। प्रधानमंत्री मंगलवार को यहां के ऐशबाग में आयोजित होने वाले दशहरा मेले में शामिल होंगे। प्रधानमंत्री के इस कार्यक्रम की विपक्षी दलों ने आलोचना की है। विपक्षी दल इसे प्रदेश के विधानसभा चुनाव से जोड़कर देख रहे हैं। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और लखनऊ के महापौर डॉक्टर दिनेश शर्मा ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘रावण पहला आतंकी था। उसका विरोध करने के लिए आज तक उसका पुतला हम जलाते हैं। ये विचार भारत का है। उसी का प्रतिपादन करने प्रधानमंत्री यहां आ रहे हैं।’ मोदी के लखनऊ आकर दशहरा मनाने को उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव से जोड़ने और राजनीतिक लाभ लेने के विरोधी दलों के आरोपों की ओर ध्यान दिलाए जाने पर डॉक्टर शर्मा ने कहा, ‘प्रधानमंत्री के लखनऊ स्थित ऐशबाग के अत्यंत प्राचीन ऐतिहासिक दशहरा मेले में शामिल होने के पीछे ना तो कोई राजनीति है और ना ही कोई मंतव्य।’ उन्होंने कहा, ‘यह उनकी (मोदी) श्रद्धा और अस्था का प्रतीक है। गंगा जमुनी सभ्यता के प्रतीक स्थल के प्रति नमन का भाव है।’

ऐशबाग रामलीला समिति के संरक्षक डॉक्टर शर्मा ने कहा कि आतंकवाद का विनाश करने वाले मर्यादा पुरुषोत्तम राम पहले आतंकी का वध करने वाले थे। उन्हीं की वधलीला देखने प्रधानमंत्री यहां आ रहे हैं। ये पूरी तरह परंपरागत कार्यक्रम है। इस तरह के कार्यक्रमों में प्रधानमंत्री जाते रहे हैं। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव से ऐन पहले मोदी के दशहरा मेले में शामिल होने को लेकर विपक्षी दलों की ओर उंगली उठाए जाने से जुड़े सवाल पर शर्मा ने कहा कि स्वयं प्रधानमंत्री और देशवासियों को भी पता है कि रावण तो कई हजार साल पहले मरा था। उत्तर प्रदेश चुनाव तो अब आ रहा है। रावण वध का एक तय समय होता है। तारीख तय होती है। उत्सव होता है। प्रधानमंत्री उसमें जाते हैं। जो लोग उसमें राजनीति जोड़ते हैं, वे पहले अपनी स्थिति देखें।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने रविवार को कांशीराम की पुण्यतिथि के मौके पर एक रैली में कहा था कि मोदी के लखनऊ आकर दशहरा मनाने के पीछे भाजपा का राजनीतिक स्वार्थ है। इस ओर ध्यान दिलाए जाने पर महापौर ने कहा, ‘मायावती का कुनबा बिखर रहा है। सपा पारिवारिक विग्रह में है। मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता। ये उनका दायित्व है कि वे अपने घर को संभालेंगे।’ उन्होंने कहा कि मोदी का ऐशबाग दशहरा मेले में शामिल होना पूरी तरह गैर राजनीतिक कार्यक्रम है। इसका राजनीति से दूर दूर तक कोई वास्ता नहीं है।
इससे पहले एक प्रेस कांफ्रेंस में डॉक्टर शर्मा ने कहा कि ऐशबाग रामलीला समिति की ओर से पिछले सत्तर साल से देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को आमंत्रण पत्र जाता रहा है। प्रसन्नता इस बात की है कि प्रधानमंत्री को हमेशा की तरह आमंत्रण पत्र पहुंचा और लीक से हटकर बगैर किसी संवाद के उन्होंने इस ऐतिहासिक दशहरे को देखने के लिए समय दिया।
पूर्व के प्रधानमंत्री आमतौर पर नई दिल्ली स्थित रामलीला मैदान में होने वाले दशहरा मेला में शामिल होते आए हैं।

शर्मा ने बताया कि ऐशबाग रामलीला मैदान में 25 हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था है। बाहर की भीड़ जोड़ें तो करीब सवा लाख लोग हो जाते हैं। सब लोगों का मैदान में बैठना संभव नहीं है। इसलिए दर्जन भर एलसीडी वैन और मैदान के आसपास की जगहों पर तीन दर्जन से अधिक एलसीडी स्क्रीन लगाए गए हैं ताकि प्रधानमंत्री के उद्बोधन को जनता सीधे देख सके।डॉक्टर शर्मा ने बताया कि प्रधानमंत्री शाम छह बजे अमौसी हवाई अड्डे से सीधे ऐशबाग रामलीला मैदान पहुंचेंगे। वह दस मिनट भाषण करेंगे। राम जी की आरती करेंगे। मंगलाचरण होगा। इस अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य और उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री भी मौजूद रहेंगे। प्रधानमंत्री को पारंपरिक गदा, रामचरितमानस की प्रति, कवच, तीर धनुष, सुदर्शन चक्र भेंट किया जाएगा। मंगलवार को केवल रावण लीला का कार्यक्रम होगा। मेघनाथ और कुंभकरण लीला सोमवार को ही संपन्न हो जाएगी।

प्रधानमंत्री के स्वागत में हवाई अड्डे से रामलीला मैदान तक सड़क के दोनों ओर केसरिया झंडे और बैनर लगाए गए हैं। प्रधानमंत्री की अगवानी स्थानीय सांसद गृह मंत्री राजनाथ सिंह स्वयं करेंगे। डॉक्टर शर्मा ने अपनी प्रेस कांफ्रेंस रामलीला मैदान में ही की, जहां मंगलवार को मोदी पहुंच रहे हैं। मैदान के भीतर और बाहर चप्पे-चप्पे पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं। एसपीजी ने कार्यक्रम स्थल को अपने नियंत्रण में ले लिया है। प्रदेश पुलिस के अलावा बड़ी संख्या में केंद्रीय बलों की तैनाती की गई है। बम निरोधक दस्ता और अग्निशमन की तमाम गाड़ियां मौके पर तैनात हैं। त्वरित कार्रवाई बल (आरएएफ) और अन्य विशेष बल भी तैनात किए गए हैं।

 

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 11, 2016 4:11 am

  1. No Comments.

सबरंग