ताज़ा खबर
 

योगी सरकार के आदेश पर काजी का मदरसों को फरमान- 15 अगस्त मनाएं, पर मत गाएं राष्ट्रगान

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा हाल ही में जारी किए आदेश जिसमें राज्य में स्थित सभी मदरसों में आगामी स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा फहराकर राष्ट्रगान गाने और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करने के निर्देश हैं का विरोध शुरू हो गया है।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ।(फोटो: PTI)

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा हाल ही में जारी किए आदेश जिसमें राज्य में स्थित सभी मदरसों में आगामी स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा फहराकर राष्ट्रगान गाने और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करने के निर्देश हैं का विरोध शुरू हो गया है। बरेलवी काजी ने सभी बरलेवी मदरसों को निर्देश दिए हैं जिसमें स्वतंत्रता दिवस मनाने की बात को कही गई है लेकिन राष्ट्रगान गाने को मना किया गया है। ऐसे करने के पीछे का कारण अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। इससे पहले राज्य के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने सरकार के फैसले का बचाव करते हुए कहा था कि देश के तमाम नागरिक होली, दीपावली, ईद और लोहड़ी के त्यौहार मनाते हैं। वहीं, स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस को पूरा देश मनाता है। मदरसों को इससे अलग नहीं किया जाना चाहिये। उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड के रजिस्ट्रार राहुल गुप्ता ने हाल में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के उपनिदेशक तथा राज्य के सभी जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों को भेजे गये आदेश में कहा है कि आगामी स्वाधीनता दिवस पर राज्य के सभी मदरसों में झण्डारोहण के साथ राष्ट्रगान गाया जाए।
आदेश में स्वाधीनता दिवस पर सभी मदरसों में छात्र-छात्राओं द्वारा राष्ट्रीय गीतों का प्रस्तुतिकरण करने, स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों को श्रद्धांजलि देने, उनके सम्बन्ध में बच्चों को बताने तथा राष्ट्रीय एकता पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित करने को कहा गया है। आदेश में अधिकारियों से यह भी कहा गया है कि वे मदरसों में स्वाधीनता दिवस पर आयोजित कार्यक्रमों की तस्वीरें और वीडियो फुटेज प्राप्त करें, ताकि उत्कृष्ट श्रेणी के कार्यक्रमों को भविष्य में दोहराया या प्रोत्साहित किया जा सके

इस बीच, इस्लामी शिक्षण संस्था दारुल उलूम फरंग महल के प्रमुख और आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा कि आजादी के बाद से अब तक देश-प्रदेश के मदरसों में स्वाधीनता दिवस पर तिरंगा फहराकर राष्ट्रगान गाया जाता रहा है। इसके अलावा विद्यार्थियों को स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में भी बताया जाता रहा है। ऐसे में सरकार द्वारा यह आदेश जारी करने का क्या मतलब लगाया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि जहां तक स्वतंत्रता दिवस समारोह की वीडियोग्राफी का सवाल है तो सरकार यह बताए कि क्या उसने यह आदेश प्रदेश के सभी स्कूलों के लिये जारी किया है, या यह फरमान सिर्फ मदरसों के लिये है। अगर ऐसा है तो क्या इसे मदरसों की देशभक्ति पर सवाल के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिये।भाजपा की वरिष्ठ नेता रूमाना सिद्दीकी ने सरकार के इस कदम का स्वागत करते हुए कहा कि 15 अगस्त हमारा स्वाधीनता दिवस है। जब देश के विभिन्न शिक्षण संस्थान इस दिन को जोश-ओ-खरोश से मनाते हैं तो इसमें मदरसे क्यों पीछे रहें। उन्होंने कहा कि सरकार के इस कदम का विरोध करने वालों को भारत छोड़कर पाकिस्तान चले जाना चाहिये। लेकिन अब जिस तरह से मदरसों का रुख सामने आ रहा है लगता है अभी ये विवाद और चलेगा।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग