ताज़ा खबर
 

अमित शाह ने तोड़ी प्रशांत किशोर की टीम, उनके 50 लोगों को अपने पाले में लेकर यूपी चुनाव पर लगाया

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने यूपी विधानसभा चुनाव के लिए अपना दांव चल दिया है। उन्होंने अपनी चुनावी रणनीतियों के लिए मशहूर हो चुके प्रशांत किशोर की टीम तोड़ दी है।
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रशांत किशोर की टीम के 50 लोगों को अपनी टीम में शामिल किया।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने यूपी विधानसभा चुनाव के लिए अपना दांव चल दिया है। उन्होंने अपनी चुनावी रणनीतियों के लिए मशहूर हो चुके प्रशांत किशोर की टीम तोड़ दी है। इंडियन एक्सप्रेस को मिली जानकारी के मुताबिक, अमित शाह ने प्रशांत की टीम के 50 लोगों को अपने पाले में जोड़ लिया है। ये लोग अबतक प्रशांत के साथ मिलकर काम कर रहे थे। ये लोग प्रशांत की कंपनी Citizens for Accountable Governance में ही काम काम करते थे। शाह को प्रशांत किशोर कभी पसंद नहीं थे। तब भी नहीं जब प्रशांत 2014 में नरेंद्र मोदी के लिए रणनीति बनाया करते थे। अमित शाह ने जिन 50 लोगों को अमनी टीम में शामिल किया है उसमें अनिल जैन, अनुज गुप्ता, सुनील कनुगुलू, अलकेश और हिमांशु सिंह शामिल हैं। ये लोग फिलहाल बैंगलूरू में हैं, लेकिन जल्द ही लखनऊ शिफ्ट हो जाएंगे। प्रशांत किशोर जो कि इस वक्त यूपी में कांग्रेस के लिए रणनीति बना रहे हैं उन्हें अपनी टीम के लोगों के विपक्षी खेमें में जाने से परेशानी तो जरूर होगी।

कांग्रेस के लिए काम करने से पहले तक प्रशांत किशोर का वक्त काफी अच्छा रहा। उन्होंने 2014 में नरेंद्र मोदी के लिए रणनीति बनाई। वे प्रचंड बहुमत से सरकार में आ गए। फिर बिहार चुनाव में वे नीतीश कुमार के साथ हुए। नीतीश भी चुनाव जीत गए। ऐसे में कांग्रेस ने यूपी चुनाव के लिए उन्हें अपनी तरफ किया है। लेकिन बीच-बीच में कांग्रेस के नेताओं और उनके बीच मतभेद की खबरें आती रहती हैं। बीच में यह भी खबर आई थी कि प्रशांत भी कांग्रेस से परेशान हैं।

Read Also: कांग्रेसियों की शिकायत- चेतावनी के बावजूद सोनिया गांधी की जान खतरे में डाल रहे हैं प्रशांत किशोर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Shailesh Jha
    Aug 10, 2016 at 4:44 pm
    अगर ये काम पहले कर लेते तो आपके अंध भक्तों को भौंकना नहीं पड़ता ।
    (0)(0)
    Reply
    1. c
      c.k.kela
      Aug 10, 2016 at 6:06 pm
      इन्हे.. तोडना अच्छा लगता है ।
      (0)(0)
      Reply
      1. C
        Chandra Prakssh
        Aug 10, 2016 at 6:23 am
        Todna inka kam hain,jodna nahin. Pahle Arunanchal, phir Uttarakhand aur apne Gujarat mein bhi Anandiben ke sath bhi yahi kiya. Poore desh mein bhi todh marodh kar rahen.Party president ke naate bhi party netaon se bhi yahi kam karvaten hain.Todhne se banai i safalta temporary hoti hain ,yeh in kee samajh mein nahi aata.Arunanchal aur Gujarat mein inhe munh kee khani padi. Prashant kis bhi kya itne unprofessional hain kee kuchh logon ko toot kar Jane se apni team phir se nahin bana lenge
        (0)(0)
        Reply
        1. M
          manendra singh
          Aug 10, 2016 at 5:19 am
          अगर राजनैतिक दल चुनाव जीतने का श्रेय जनता के समर्थन को न देकर , अशांत प्रशांत को देंगे, तो जनता अपने आपको ठगा हुआ महसूस करेगी
          (0)(0)
          Reply
          1. R
            rahul
            Aug 10, 2016 at 3:58 am
            ये पहले कांग्रेसी सरकारो को गिरा कर अपनी काबिलियत सिद्ध कर चुके हैं अब किशोर की टीम को तोडकर जायज नाजायज की सभी सीमाऐ लांघ दी है याद रखियेगा इतिहास अपने आप को दोहराता है
            (2)(2)
            Reply
            1. S
              Shailendra
              Aug 10, 2016 at 11:40 am
              बिलकुल ी कहा जो कांग्रेस ने किया आज वही उसके साथ हो रहा खुद १०० बार से ज्यादा राष्ट्रपति शासन लगाने वाली कांग्रेस खुद के दो राज्यो में लागु होने पे लोकतंत्र पे खतरा बता रही और खुद के पाप भूल गयी
              (0)(0)
              Reply
            2. Load More Comments
            सबरंग