ताज़ा खबर
 

ईवीएम पर नहीं है अखिलेश यादव को भरोसा, बैलट पेपर से चाहते हैं चुनाव

में ईवीएम पर भरोसा नहीं है। हमें सौ प्रतिशत भरोसा अपने बैलट पर है। हमारी मांग है कि चुनाव बैलट से हो ।
Author लखनऊ | April 15, 2017 15:53 pm
उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव (Source: ANI)

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि ईवीएम पर सवाल उठ रहे हैं और इस पर भरोसा नहीं किया जा सकता इसलिए चुनाव ‘बैलट’ से ही कराये जाने चाहिए। अखिलेश ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘ईवीएम :इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन: कब खराब हो जाए। साफ्टवेयर कब धोखा दे जाए … मशीन पर कोई भरोसा नहीं कर सकता। हमें ईवीएम पर भरोसा नहीं है। हमें सौ प्रतिशत भरोसा अपने बैलट पर है। हमारी मांग है कि चुनाव बैलट से हो … हम नहीं कहते कि ईवीएम अच्छी है या खराब।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ईवीएम पर सवाल उठ रहे हैं। लोग अभी भी भरोसा नहीं कर पा रहे हैं कि उनका वोट कहां गया। बटन साइकिल पर दबाया होगा, वोट भाजपा को चला गया होगा। चुनाव आयोग को बताना चाहिए कि मशीन कैसे खराब हो जाती है। ईवीएम में साफ्टवेयर कौन बना रहा है। गरीब कह रहे हैं कि हमने वोट सपा को ही दिया था लेकिन सपा को वोट मिला क्यों नहीं।’’ भारतीय जनता पार्टी पर उत्तर प्रदेश में ‘जनता को धोखा’ देकर सरकार बनाने का आरोप लगाते हुए अखिलेश यादव ने कहा, ‘‘जनता को कहीं ना कहीं लगा है कि उसे धोखा देकर :भाजपा की ओर से: सरकार बनाने का काम किया गया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पूरा का पूरा चुनाव धर्म और जाति के आधार पर लोगों के बीच नफरत फैलाकर लडा गया। धर्म और जाति के आधार पर जनता को लाभ देने की बात कह जनता से धोखे में वोट लिया गया।’’

जिला मुख्यालय पर 24 घंटे, तहसील स्तर पर 20 घंटे और गांवों में 18 घंटे बिजली सुनिश्चित करने के प्रदेश की भाजपा सरकार के फैसले पर अखिलेश ने कहा कि बिजली पर सपा सरकार ने बहुत काम किया है। समाजवादी ट्रांसफार्मर, सबस्टेशन और ट्रांसमिशन लाइनों से बिजली मिल रही है। अभी समाजवादी सरकार की योजनाएं चल रही हैं। सपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के विरोध करने का समय अभी नहीं आया है। विरोध का समय तब आएगा, जब उनका :भाजपा सरकार: पूरा बजट पारित होगा और उनकी योजनाएं चलेंगी। प्रदेश की कानून व्यवस्था पर वह बोले, ‘‘कानून व्यवस्था का क्या कहें। लोग जिन्दा जलाये जा रहे हैं। फांसी पर लटका दिये जा रहे हैं। बच्चों के साथ घटनाएं हो रही हैं। कौन सी घटना नहीं हो रही है। ये सब अगर सपा के शासन में होता तो बडा मुद्दा बनता।’’

एंटी रोमियो स्क्वैड पर अखिलेश ने कहा कि जो लोग स्क्वैड चला रहे हैं, उन्हें कम से कम रोमियो को बदनाम नहीं करना चाहिए। ‘‘रोमियो के चक्कर में कितने पिट रहे हैं और लोग कितने अपमानित हो रहे हैं। हम तो केवल इतना चाहते थे कि रोमियो की असली कहानी बता देते।’’
उन्होंने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि गाय पर क्या हमने कानून नहीं बनाया। हम तो कहते हैं हमारे गांव चले जाओ, अभी भी गायें हैं। ‘‘ये बीजेपी के लोग तो ऐसे हैं कि हमें हिन्दू ही नहीं समझ रहे हैं। हमें खुद पूछना पडेगा उनसे कि भई हम हिन्दू हैं कि नहीं हैं। अब तो हमें ये करना पडेगा कि सुबह जब मंदिर के सामने जाउच्च्ं और पूजा करूं तो पहली पिक्चर ट्वीट कर दूं।’’अखिलेश यहीं नहीं रूके, उन्होंने कहा, ‘‘…. और जैसे जैसे दिन …. सोमवार को रंग वाला कपडा पहनूं। मंगलवार को दूसरे रंग का पहनूं। बुध को दूसरे रंग का पहनूं। शनिवार को जो रंग हो, वो पहनूं। अभी तक तो हम सफेद कुर्ता और काली सदरी में काम चला रहे थे।’’

सपा प्रमुख ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि सात रंग के नये कुर्ते अलग से बनवाने पडेंगे जिससे ये साबित कर दूं कि आज शंकर भगवान का दिन है तो ये कपडा पहनकर निकल रहा हूं। आज बृहस्पति है तो पीला पहनकर निकल रहा हूं। शनिवार है तो नीला पहनकर धूम रहा हूं।’’
भाजपा विरोधी दलों के गठबंधन पर अखिलेश ने कहा कि आने वाले समय में देश में जो भी गठबंधन बनेगा, समाजवादी पार्टी उसमें अहम भूमिका निभाएगी। ‘‘कोई ना कोई ऐसा गठबंधन हो, रास्ता निकले, हम तो हर एक का स्वागत करने वाले लोग हैं। हमने पहले भी स्वागत किया था।’’ उल्लेखनीय है कि बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी कल कहा था, ‘‘हमारी पार्टी भाजपा द्वारा ईवीएम की गडबडी के खिलाफ बराबर संघर्ष करेगी और इसके लिए भाजपा विरोधी दलों से भी हाथ मिलाना पडा तो अब उनके साथ भी हाथ मिलाने में परहेज नहीं है …।’’
सपा के सदस्यता अभियान पर उन्होंने कहा कि कोशिश होगी कि हर वर्ग के लोगों के बीच सपा पहुंचे और खुशी इस बात की है कि बडे पैमाने पर लोगों ने सदस्यता लेनी शुरू की है। सदस्यता अभियान आज से लगातार दो महीने तक चलेगा। अभियान के दौरान लोगों को सपा के सिद्धांत और पिछले पांच साल के कार्यक्रम बताने का भी मौका मिलेगा।=उन्होंने बताया कि सदस्यता कार्यक्रम कार्यकर्ताओं के माध्यम से चलाया जाएगा। ‘मिस्ड काल’ और सोशल मीडिया के माध्यम से भी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने का प्रयास होगा। हम गांव गांव और घर घर सदस्यता कार्यक्रम चलाएंगे। उत्तर प्रदेश के अलावा अन्य प्रदेशों में भी प्रभारी बनाकर वहां सदस्यता कार्यक्रम तेजी से आगे बढाया जाएगा।

लखनऊ: योगी आदित्यनाथ के साथ गोशाला पहुंचे प्रतीक यादव और अपर्णा यादव

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.