ताज़ा खबर
 

कन्हैया ने कहा- जुमलेबाजी करते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मनुस्मृति संविधान नहीं हो सकता

जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष रह चुके कन्हैया ने कहा, ‘हम मोदी के खिलाफ बोलते हैं, तो हमें देश्रदोही बोला जाता है लेकिन मैं इस बात को नहीं मानता। मोदी जी आप देश नहीं हैं। संघ संसद नहीं है।'
Author लखनऊ | September 18, 2016 20:39 pm
गुरुवार (8 सितंबर) को कोलकाता में एआईएसएफ और एआईवाईएफ के संयुक्त सम्मेलन को संबोधित करते जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैैया कुमार। (PTI Photo by Swapan Mahapatra)

ऑल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन (एआईएसएफ) के नेता कन्हैया कुमार ने रविवार (18 सितंबर) को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह मुददों से ध्यान बंटाने के लिए ‘जुमलेबाजी’ करते हैं। कन्हैया ने यहां एक विचार गोष्ठी में कहा कि अच्छे दिन और काला धन वापसी जैसी बातें सिर्फ जुमलेबाजी है। असली सवाल से ध्यान बंटाने के लिए ये जुमलेबाजी की जाती है। जब तक वोट की राजनीति बंद नहीं होगी, समाज का भला नहीं होगा। उन्होंने कहा, ‘हम मोदी के खिलाफ बोलते हैं, तो हमें देश्रदोही बोला जाता है लेकिन मैं इस बात को नहीं मानता। मोदी जी आप देश नहीं हैं। संघ संसद नहीं है और मनुस्मृति संविधान नहीं हो सकता।’

जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष रह चुके कन्हैया ने कहा कि देश की भक्ति कैसे की जाती है, यह उन्हें अच्छी तरह मालूम है। जाति एवं धर्म के आधार पर बांटना बंद होना चाहए। लव जिहाद, घर वापसी, बीफ जैसे मुद्दों से देश का भला नहीं होने वाला है। गरीबी और बेरोजगारी दूर करने के प्रयास होने चाहिए। उन्होंने कहा कि अब राजनीति में विकल्प नहीं तलाशे जाने चाहिए बल्कि विकल्प की राजनीति शुरू की जानी चाहिए। कन्हैया ने संविधान, सद्भाव, शिक्षा, रोजगार पर बढ़ते हमले की चर्चा की। साथ ही दलितों, महिलाओं, अल्पसंख्यकों, बुनकरों और मेहनतकशों की सुरक्षा की चुनौतियां भी गिनायीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Abu talib
    Sep 18, 2016 at 6:17 pm
    राहुल गाँधी को अपनी तक़रीर कन्हैया कुमार से लिखवानी चाहिए .
    (0)(0)
    Reply
    1. A
      ar
      Sep 18, 2016 at 7:18 pm
      वेरोजगारी और गरीबी दूर करने की बात करने वाले भाईसाहब पहले यह तो बताईये की आपने कितने लोगो को नौकरी दी और कितने गरीबो को खाना खिलाया...... केवल मार्क्स की तरह लोगो भ्रमित मत कर....
      (1)(0)
      Reply
      1. I
        Ish Prakash
        Sep 19, 2016 at 1:12 am
        इस देश-द्रोही कन्हैया कुमार के पास देश के लिए कुछ भी अच्छा करने की औकात ही नहीं है, केवल लोगो को भ्रमित करने की कोशिश में लगा रहता है, और उन्ही ो की वजह से यह साँप का बच्चा नेता कहलाता है. इस के फन को अभी से ही कुचल देना ,देश के लिए हितकर होगा . वंदे-मातरम
        (2)(0)
        Reply
        1. K
          ks
          Sep 18, 2016 at 5:21 pm
          वा रे जनसत्ता क्या इस अख़बार क्या ये स्तर हो गया की इस देश द्रोही के केसः वाले इंसान को नेता कहते हो की मोदी पर हा कर रहा है
          (0)(0)
          Reply
          1. I
            IMRANKHAN
            Sep 19, 2016 at 4:02 am
            Sir, really I agree with u
            (0)(0)
            Reply
            1. P
              pawan
              Sep 19, 2016 at 6:07 am
              के भोकने को भी न्यूज़ बनाने बाले अखवार और न्यूज़ चेनेल को शर्म होनी चाहिए , ऐसी न्यूज़ खोज कर लाने या बनाने से उनका स्तर पता चलता है
              (0)(1)
              Reply
              1. P
                pawan
                Sep 19, 2016 at 6:12 am
                बेगूसराय मैं एक कहावत है " माई करे कुटोन - पिसोन बेटा के नाम दुर्ास " एक दम सटीक इस कुते पर फिट होता है
                (0)(1)
                Reply
                1. A
                  Amit kumar
                  Sep 19, 2016 at 1:25 am
                  What is your opinion? kanhaiya dash drohi hai isne kitane logo ki garibi dur ki ya rojagar diya sirf modi virodh karana inki niyati hai
                  (2)(1)
                  Reply
                  1. R
                    rolu
                    Sep 19, 2016 at 2:05 pm
                    chullu bhar pani me dub maro..deshdrohi..hindu dharm na hota to tum kanhaiya ki jagah kuchh aur hote
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. S
                      suvash
                      Sep 19, 2016 at 4:19 am
                      नो कमेंट
                      (0)(0)
                      Reply
                      1. Load More Comments
                      सबरंग