December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

इंदौर-पटना एक्सप्रेस: दोनों स्टेशनों पर बदहवास पहुंचे परिजन, पिता को खोजती रह गई होने वाली दुल्हन

मैं नहीं जानती कि अब मेरी शादी निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक होगी या नहीं। अभी तो मैं पिता को ढूंढ़ना चाहती हूं।

Author पुखरायां | November 21, 2016 04:13 am
सीएम ने कहा, ”मैं लगातार रेल मंत्री सुरेश प्रभु और पीएम नरेंद्र मोदी के संपर्क में हूं और उन्हें पल-पल की जानकारी दी जा रही है।

इंदौर-पटना एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने से 20 वर्षीय रूबी गुप्ता पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। जल्द ही दुल्हन बनने जा रही रूबी हादसे के बाद से अपने लापता पिता को खोज रही हैं। रूबी के एक हाथ की हड्डी टूट गई है। उनकी शादी एक दिसंबर को होनी है और इसके लिए वे इंदौर से मऊ जा रही थीं। भाई-बहनों में सबसे बड़ी रूबी के साथ उनकी बहनें 18 वर्षीय अर्चना और 16 वर्षीय खुशी, भाई अभिषेक और विशाल और पिता राम प्रसाद गुप्ता थे। उनके पिता हादसे के बाद से लापता हैं। इस परिवार के साथ उनके पारिवारिक दोस्त राम प्रमेश सिंह भी यात्रा कर रहे थे।

रूबी ने कहा कि मैंने हर जगह देखा लेकिन मुझे मेरे पिता नहीं मिले। कुछ लोगों ने मुझे उन्हें अस्पताल और मुर्दाघरमें खोजने को कहा है लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा कि अब मैं क्या करूं। उन्होंने कहा कि मैं नहीं जानती कि अब मेरी शादी निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक होगी या नहीं। अभी तो मैं पिता को ढूंढ़ना चाहती हूं। रूबी अपने साथ शादी के कपड़े और गहने लेकर चली थीं और वह भी उन्हें नहीं मिल रहे। उन्होंने अभी तक शिकायत दर्ज नहीं करवाई है।

इसके अतिरिक्त दुर्घटनाग्रस्त इंदौर-पटना एक्सप्रेस में सवार करीब 200 मुसाफिरों के चिंतित परिजन रविवार को स्थानीय रेलवे स्टेशन पहुंचे और उनकी खैरियत पता करने की कोशिश की। शासकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) की मदद से रेलवे स्टेशन पर स्थापित सहायता केंद्र संभाल रहे सामाजिक कार्यकर्ता अजय झा ने बताया कि हमसे अब तक करीब 200 यात्रियों के बारे में जानकारी मांगी गई है, जो कानपुर देहात के पुखरायां में दुर्घटनाग्रस्त हुई इंदौर-पटना एक्सप्रेस में सवार थे। हम रेलवे प्रशासन की मदद से इन यात्रियों के बारे में जानकारी जुटाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि खास तौर से एस 1, एस 2 और एस 3 कोच में सवार यात्रियों के परिजन ज्यादा चिंतित हैं। ये वो बोगियां हैं जो पटरी से उतर गईं और जिन्हें हादसे में सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है।

शासकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) के अधीक्षक महेशचंद्र जैन ने बताया कि हमें हादसे में हताहत यात्रियों की आधिकारिक सूची फिलहाल नहीं मिल सकी है। लेकिन जीआरपी अपने स्तर पर उन यात्रियों के बारे में पता कर रही है, जिनसे हादसे के बाद से संपर्क नहीं हो सका है।उन्होंने बताया कि जीआरपी अपनी विशेष बस से उन यात्रियों के रिश्तेदारों को भोपाल पहुंचाने का इंतजाम भी कर रही है, जिनका इंदौर-पटना एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद से कोई अता-पता नहीं है। इन यात्रियों के ये रिश्तेदार अपने परिजनों की तलाश में भोपाल से ट्रेन के जरिए कानपुर देहात जिले रवाना होना चाहते हैं।

 

 

हथियारबंद लुटेरों ने 12 साल की लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार किया; मां-बाप को पीटा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 21, 2016 4:12 am

सबरंग